कुशीनगर : पडरौना कोतवाली क्षेत्र के गांव बेतिया निवासी 55 वर्षीय अधेड़ की बबुइयां हरपुर पुलिस चौकी परिसर में शनिवार की रात को मृत्यु हो गई। अधेड़ के स्वजन चौकी इंचार्ज पर गंभीर आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिए। लोगों की सूचना पर पहुंचे कोतवाल ने आला अधिकारियों से वार्ता कर कार्रवाई का आश्वासन दे लोगों शांत किया। शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

बताया जा रहा है कि बेतिया गांव के पारस व मैनेजर कुशवाहा के बीच भूमि विवाद चल रहा है। इसे लेकर दोनों पक्षों के बीच हुई मारपीट का मुकदमा न्यायालय में लंबित है। न्यायालय से एक पखवारा पूर्व मैनेजर के विरुद्ध वारंट जारी हुआ था। जानकारी होने पर मैनेजर ने अपने अधिवक्ता के माध्यम से वारंट का रिकाल करा लिया। शनिवार शाम को बबुइयां हरपुर पुलिस चौकी के दो सिपाही मैनेजर के घर गए और वारंट जारी होने की जानकारी देते हुए उन्हें चौकी चलने को कहे। मैनेजर रिकाल से जुड़ा कागजात दिखाए पर सिपाही नहीं माने। विवश होकर वह बेटे पवन कुशवाहा संग साइकिल से चौकी पर पहुंचे। आरोप है कि चौकी इंचार्ज ने न्यायालय का वारंट जारी होने की बात कही और जेल जाने से बचने के लिए 20 हजार रुपये की मांग की। रिकाल की बात दुहराते हुए मैनेजर ने चौकी इंचार्ज के सामने गुहार लगाई पर वह नहीं सुने। आरोप है कि चौकी इंचार्ज ने मैनेजर व उनके बेटे को जेल भेजने की धमकी दी। इसके कुछ ही देर बाद मैनेजर की तबीयत एकाएक बिगड़ गई और वह चौकी परिसर में ही गिर पड़े। पुलिसकर्मी उन्हें तत्काल निकट के पीएचसी ले गए, जहां परीक्षण के पश्चात डाक्टर ने मृत घोषित कर दिया। मौत की सूचना मिलते ही गांव के लोग चौकी पर पहुंच कर नारेबाजी करने लगे। सूचना मिलते ही कोतवाल निर्भय कुमार सिंह मौके पर पहुंचे और आक्रोशित लोगों को समझाने में जुट गए। आला अफसरों को सूचना दी। जांच कर कार्रवाई के आश्वासन के बाद लोग माने। मृतक के बेटे ने चौकी इंचार्ज पर रुपये मांगने तथा रुपये न देने पर जेल भेजने की धमकी दिए जाने से पिता को सदमा पहुंचने और मौत होने का आरोप लगाते हुए तहरीर दी है। एएसपी रितेश कुमार सिंह ने बताया कि मामले की जांच सीओ सदर को सौंपी गई है। जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई होगी।

Edited By: Jagran