गोरखपुर, जागरण संवाददाता। कुशीनगर जनपद के कसया उपकेंद्र से तरकुलवा विद्युत उपकेंद्र को आने वाली मुख्य लाइन में खराबी के चलते दो अक्‍टूबर की सुबह से बिजली आपूर्ति ठप हो गई। आठ घंटे तक दो सौ गांवों की बिजली आपूर्ति ठप रही। बिजली आपूर्ति ठप होने से उपभोक्ता परेशान रहे। मोबाइल समेत अन्य इलेक्ट्रानिक उपकरण लोगों के बंद रहे।

बारिश की वजह से आई खराबी

दो दिनों से जिले में मूसलधार बारिश हो रही है। दो अक्‍टूबर को सुबह अचानक कसया से तरकुलवा विद्युत उपकेंद्र को आने वाली मुख्य लाइन में खराबी आ गई। खराबी आने के बाद तरकुलवा उपकेंद्र की बिजली आपूर्ति ठप हो गई और उपकेंद्र से जुड़े 200 गांवों की बिजली आपूर्ति गुल हो गई। बारिश के चलते खराबी को दूर करने में भी कर्मचारियों को दिक्कत होती रही। लगभग आठ घंटे के प्रयास के बाद खराबी दूर हो सकी ।

पांच दिन पहले भी खराब हो गई थी मुख्‍य लाइन

पांच दिन पहले भी मुख्य लाइन में खराबी आने के चलते बिजली आपूर्ति ठप हो गई थी। अवर अभियंता संदीप कुमार ने कहा कि मुख्य लाइन में खराबी आने के चलते आपूर्ति ठप हुई थी। खराबी को दूर करने के साथ ही उच्चाधिकारियों को इसकी जानकारी दे दी गई है।

फीडर में फाल्ट होने से अंधेरे में 24 गांव

क्षेत्र के गज हड़वा उपकेंद्र से संचालित प्रतापपुर फीडर में फाल्ट होने के चलते सिकटिया, नियरवा,बसावन चक,खुरवसिया, प्रतापपुर ,बंगरूवा, छपरा बुजुर्ग 24 गांवों की विद्युत आपूर्ति 30 घंटे ठप रही। अवर अभियंता प्रमोद कुमार का फोन नही लगा। एसडीओ कामतानाथ पांडेस ने कहा कि बारिश की वजह से दिक्कत आई है। आपूर्ति बहाल करने की कोशिश की जा रही है।

दो सप्ताह से माधोपुर गांव में अंधेरा

क्षेत्र के माधोपुर में ट्रांसफार्मर जलने से दो सप्ताह से अंधेरा है। कई बार अधिकारियों से ग्रामीणों ने मुलाकात की, लेकिन अधिकारी इसे गंभीरता से ले रहे हैं। गांव के लोग ट्रांसफार्मर बदलने की मांग को आंदोलन करने की तैयारी में हैं। गांव में 63 केवीए का ट्रांसफार्मर दो सप्ताह पूर्व जल गया। विभाग ने प्रयास किया और 24 घंटे के अंदर ट्रांसफार्मर लग गया। लेकिन चंद मिनट में ही ट्रांसफार्मर जल गया। तभी से गांव में अंधेरा है।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi