महराजगंज: जिलाधिकारी डा. उज्ज्वल कुमार की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति की शासकीय निकाय की समीक्षा बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई। बैठक में संस्थागत प्रसव, पूर्ण टीकाकरण, संचारी रोग, टेस्टिग व सैंपुलिग जैसे विभन्न स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों की समीक्षा की गई। कोविड टीकाकरण के संदर्भ में जिलाधिकारी ने कहा कि कोरोना को देखते हुए विशेष सतर्कता बरतें, विशेषकर लक्ष्मीपुर, निचलौल और नौतनवा जैसे सीमावर्ती ब्लाकों, फरेंदा स्टेशन पर कैंप लगाकर टेस्टिग करें। ताकि संवेदनशील राज्यों से आने वाले कोविड मरीजों को चिन्हित किया जा सके।

जिलाधिकारी ने कहा कि जिन लोगों को पहली डोज लग चुकी है, उनका दूसरा डोज भी सही समय पर लगाया जाए और इसके लिए आशाकर्मियों की सहायता ली जाए और साथ ही को-विन पोर्टल पर टीकाकरण की नियमित फीडिग सुनिश्चित की जाए। संस्थागत प्रसव की स्थिति पर नाराजगी जताते हुए जिलाधिकारी ने पांच सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली एएनएम का वेतन रोकने और स्पष्टीकरण माँगने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने कहा कि संस्थागत प्रसव शत-प्रतिशत सुनिश्चित करें। इसमें किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।मरीजों को किसी प्रकार की समस्या न हो इसके लिए जिलाधिकारी ने नियमित तौर पर ओपीडी के संचालन और चिकित्सा की गुणवत्ता को सुधारने का निर्देश दिया। इस संदर्भ में जो भी शिकायतें हैं, उनके त्वरित निस्तारण के लिए सीएमओ को निर्देशित किया। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा और कोरोना से सुरक्षा प्राथमिकता है और इसके लिए सभी लोग पूरी ईमानदारी से युद्धस्तर पर कार्य करें।

बैठक में सीएमओ डा. एके. श्रीवास्तव,अतिरिक्त उपजिलाधिकारी अविनाश कुमार, डीआईओएस अशोक कुमार सिंह, सभी प्रभारी निरीक्षक सीएचसी/पीएचसी समेत जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran