गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखपुर शहर के तारामंडल क्षेत्र के नागरिक अव्यवस्थाओं से जूझ रहे हैं। सड़क, नाली, पानी, प्रकाश, पार्क आदि जैसी जितनी भी मूलभूत सुविधाओं की बात की जाती है, यहां के नागरिकों को मयस्सर नहीं है। सड़कें टूट चुकी हैं तो कई जगहों पर नागरिकों ने घर के सामने खुद ही सड़क को पक्का बना दिया। पानी निकलने की व्यवस्था नहीं है, गंदा पानी खाली प्लाटों में इकट्ठा हो रहा है। सफाई की स्थिति बहुत खराब है। जैसे-जैसे बारिश का मौसम नजदीक आ रहा है, नागरिकों की चिंता भी बढ़ने लगी है। वीआइपी कहा जाने वाला इलाका इस बार भी जलभराव से जूझेगा।

वर्ष 2000 में गोरखपुर विकास प्राधिकरण (जीडीए) ने सिद्धार्थ एन्क्लेव समेत अन्य कालोनियों में जमीन का आवंटन किया था। इसके बाद लोग एक के बाद एक मकान बनवाकर रहने लगे। अफसर जल्द ही सुविधाएं मिलने का भरोसा देते रहे लेकिन हुआ कुछ नहीं। जीडीए ने पार्कों के लिए बहुत जमीन छोड़ी है लेकिन कुछ को छोड़कर ज्यादातर बदहाल ही हैं।

कागज में हैंडओवर, कभी-कभी होती है सफाई: कुछ साल पहले तत्कालीन कमिश्नर ने जीडीए की आठ कालोनियों को नगर निगम को हैंडओवर लेने के निर्देश दिए थे। तब मामला काम को लेकर फंसा था। नगर निगम के अफसर सड़क, नाली व पथ प्रकाश की व्यवस्था या विकास शुल्क जमा कराने के बाद कालोनियों का हैंडओवर लेने की बात कर रहे थे। शर्त के साथ कालोनियां हैंडओवर जरूर हुईं लेकिन सफाई भी रोजाना नहीं होती है। हालांकि नगर निगम यहां के नागरिकों से गृहकर भी नहीं लेता है। पूरा इलाका नगर निगम के वार्ड 15 से जुड़ा है।

क्या कहते हैं लोग

  • डा. एके सिंह ने बताया कि 22 साल हो गया। गोरखपुर का तेजी से विकास हो रहा है लेकिन हम लगातार पिछड़ते जा रहे हैं। मूलभूत सुविधाएं भी मयस्सर नहीं हो रही हैं।
  • श्रीराम मिश्र ने बताया कि किसी बाहर के व्यक्ति को बताओ कि तारामंडल क्षेत्र में मकान है तो वह विकास की बात कहकर बधाई देता है लेकिन हकीकत तो हम ही जान रहे हैं।
  • कुणाल मणि त्रिपाठी ने बताया कि घर के सामने इतना बड़ा पार्क है लेकिन किसी काम का नहीं है। हाइमास्ट लगाया गया पर आज तक नहीं जला। सुविधाएं मिलनी जरूरी हैं।
  • धीरज प्रताप शाही ने बताया कि सड़क बनी नहीं, कुछ महीने पहले कहीं गिट्टी बिछाकर छोड़ दी गई तो कहीं सड़क पर गिट्टी का ढेर रख दिया गया। आवागमन में भी दिक्कत हो रही है।
  • अनिता सिंह ने बताया कि सड़क, नाली और पथ प्रकाश जैसी मूलभूत सुविधाएं भी नहीं मिल रही हैं। अफसरों से शिकायत के बाद भी कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

पार्षद बोले: वार्ड नंबर 15 पार्षद रामलवट निषाद ने बताया कि जीडीए की ओर से विकसित सभी कालोनियों की व्यवस्था दुरुस्त कराने में जुटा हूं। सड़क, नाली, पानी, पथ प्रकाश, पार्कों की व्यवस्था को सुदृढ़ कराया जाएगा। विधायक, सांसद और जीडीए व नगर निगम के अफसरों से मुलाकात कर बजट की भी व्यवस्था कराई जाएगी।

Edited By: Pragati Chand