कुशीनगर: कुशीनगर के नवनिर्मित इंटरनेशनल एयरपोर्ट से दिल्ली के लिए उड़ान सेवा शुक्रवार को शुरू होगी। अवसर को यादगार बनाए रखने के लिए केक सेरेमनी होगी। एप्रन पर विशिष्ट लोग झंडी दिखाकर विमान को रवाना करेंगे।

बीते 20 अक्टूबर को पीएम नरेंद्र मोदी व सीएम योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिधिया ने एयरपोर्ट के उद्घाटन समारोह के दौरान कुशीनगर-दिल्ली, मुंबई व कोलकाता उड़ान सेवा की घोषणा की थी।

विमान सेवा का सांसद विजय कुमार दूबे, विधायक रजनीकांत मणि त्रिपाठी, डीएम एस राजलिगम, एसपी सचिद्र पटेल, एयरपोर्ट निदेशक एके द्विवेदी, स्पाइस जेट उत्तरी क्षेत्र के महाप्रबंधक रितेश दूबे संयुक्त रूप से झंडी दिखाकर शुभारंभ करेंगे। विशिष्ट व्यक्ति इस ऐतिहासिक पल का साक्षी बनेंगे। एयरपोर्ट अथारिटी आफ इंडिया और विमानन कंपनी स्पाइस जेट के अधिकारी गुरुवार को पूरे दिन तैयारियों में जुटे रहे। एएसपी रितेश कुमार सिंह ने एयरपोर्ट का दौरा कर सुरक्षा तैयारियों का जायजा लिया।

लंबे समय से था उड़ान का इंतजार

पूर्वांचल व पश्चिम बिहार के एक दर्जन जिले के लोगों को कई साल से कुशीनगर एयरपोर्ट से उड़ान की सेवा शुरू होने का इंतजार था। एयरपोर्ट का निर्माण 660 करोड़ की लागत से हुआ है। 2010 में भूमि अधिग्रहण पर 400 करोड़ खर्च किए गए। साल 2016 में 200 करोड़ खर्च कर रन-वे व एटीसी आदि का निर्माण किया गया। 2017 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लखनऊ में हुए इंवेस्टर्स समिट में जेवर व कुशीनगर में इंटरनेशनल एयरपोर्ट को प्रमोट किया था। 24 जून 2020 को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में यह इंटरनेशनल एयरपोर्ट के रूप में स्वीकृत हुआ। इसके बाद राज्य सरकार द्वारा एयरपोर्ट अथारिटी आफ इंडिया को स्थानांतरित करने की औपचारिकता पूरी की गई। एयरपोर्ट अथारिटी ने 60 करोड़ खर्च कर टर्मिनल बिल्डिग व अन्य संसाधनों की स्थापना की, लेकिन कोविड-19 के कारण उड़ान शुरू होने में विलंब होता रहा। प्रबंधक सुरक्षा संतोष मौर्य, स्पाइस जेट के स्टेशन मैनेजर कपिल खरे के नेतृत्व में अधिकारी व कर्मचारी तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटे रहे।

एयरपोर्ट निदेशक एके द्विवेदी ने कहा कि अभी घरेलू उड़ान सेवा शुरू की जा रही है। इसके तहत शुक्रवार को कुशीनगर-दिल्ली सेवा शुरू हो रही है। 18 दिसंबर से कुशीनगर-मुंबई रूट पर बोइंग विमान उड़ान भरेगा। जनवरी 2022 में कोलकाता व कुशीनगर के मध्य भी सेवा शुरू हो जाएगी। अंतरराष्ट्रीय उड़ान कोविड-19 प्रतिबंध सामान्य होने पर निर्भर है।

डीजीसीए के उपनिदेशक ने किया एयरपोर्ट दौरा

जनरल डायरेक्टर सिविल एविएशन (डीजीसीए) के उपनिदेशक कोलकाता एके मंडल दो दिवसीय दौरे पर गुरुवार को कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचे। वह यहां एयरपोर्ट को मिले विजुअल फ्लाइट रूल (वीएफआर) को इंस्ट्रूमेंट फ्लाइट रूल (आइएफआर) किए जाने की समीक्षा करने आए हैं।

उपनिदेशक ने अथारिटी के अधिकारी एयरपोर्ट डायरेक्टर एके द्विवेदी के साथ बैठक कर एयरपोर्ट पर मौजूद सुविधाओं के बारे में विस्तार से चर्चा की, सिस्टम क्षमता वृद्धि के लिए आवश्यक बिंदुओं को भी देखा। उन्होंने बताया कि वीएफआर सिस्टम लगने पर हवाई जहाज लैंडिग के लिए कम से कम पांच किमी. की ²श्यता होनी चाहिए। जबकि आइएफआर की उच्च क्षमता सिस्टम लगने के बाद इसका कोई मानक नहीं रह जाता। बताया कि वह अपनी रिपोर्ट अथारिटी मुख्यालय दिल्ली को भेजेंगे।

Edited By: Jagran