गोरखपुर, जेएनएन। भ्रष्टाचार के आरोप में घिरे एसपी यातायात को लेकर फेसबुक पर बहस शुरू हो गई है। एसपी यातायात आदित्य प्रकाश वर्मा ने अपने फेसबुक एकाउंट पर समाचार पत्रों में प्रकाशित हुई कई खबरों को पोस्ट किया। खुद को निर्दोष बताते हुए जांच को भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम चलाने का परिणाम बताया। जिस पर लोग मिली जुली प्रतिक्रिया दे रहे हैं। कई लोगों ने उनके समर्थन में तो कुछ ने विरोध में पोस्ट लिखा। एसपी महराजगंज रविवार से मामले की जाच शुरू कर सकते हैं।

होमगार्डो ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात, बताई स्थिति

सहायक कंपनी कमांडर की मौत के बाद होमगार्डो ने एसपी यातायात आदित्य प्रकाश वर्मा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। रविवार को गोरखनाथ मंदिर में उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात कर एसपी पर गंभीर आरोप लगाए थे। आइजी जयनारायण सिंह को पत्र लिखकर एसपी यातायात और उनके सहयोगियों पर धांधली करने का आरोप लगाया था। शिकायत को गंभीरता से लेते हुए आइजी ने मामले की जांच एसपी महराजगंज रोहित सिंह सजवान को सौंपी है। रविवार से वह मामले की जांच शुरू करेंगे।

एसपी यातायात ने बताया झूठी शिकायत

एसपी यातायात आदित्य प्रकाश वर्मा साजिश के तहत झूठी शिकायत करने की दलील दे रहे हैं। उन्होंने उन्होंने समाचार पत्रों में छपी खबर फेसबुक पर पोस्ट करके लिखा- ईमानदारी का यह सिला है। जिसके बाद पक्ष और विपक्ष में कमेंट की भरमार लग गई। कोई के कार्य की सराहना कर रहा तो कोई ईमानदारी का अलाप करने का आरोप लगा है। करणी सेना से जुड़े एक व्यक्ति ने तो समर्थन में आरपार की लड़ाई लड़ने की चेतावनी तक दे डाली। बहरहाल फेसबुक पर एसपी यातायात आदित्य प्रकाश वर्मा के मामले में राजनीतिक रंग ले लिया है।

Posted By: Jagran