गोरखपुर : देवरिया कांड की जांच कर रही एसआइटी देवरिया जिला मुख्यालय के स्टेशन रोड स्थित संस्था बालगृह पहुंची। बालगृह के आस-पास कई दुकानदारों से पूछताछ की गई। टीम के सदस्यों के साथ मौजूद एसटीएफ ने दुकानदारों का नाम व मोबाइल नंबर लिया। जांच के बाद टीम ने संस्था पर आने-जाने वालों के बारे में जानकारी जुटाई। सूत्रों के अनुसार विवेचक पूछताछ के लिए दुकानदारों को भी पुलिस लाइन बुला सकते हैं। जांच के घेरे में करीब एक दर्जन से अधिक दुकानदार आए हैं। करीब एक घंटे की जांच पड़ताल के बाद एसआइटी वापस लौट गई। एसआइटी के बालगृह पहुंचने से अचानक सरगर्मी बढ़ गई। स्टेशन रोड पर फिर से चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया।

पिछले एक माह से मामले की जांच कर रही एसआइटी ने करीब तीन दर्जन से अधिक लोगों से संपर्क साधा है। पुलिस लाइन में कई लोगों से पूछताछ की गई और उनका बयान भी दर्ज किया गया। संस्था की संचालक गिरिजा त्रिपाठी के कर्मचारियों को भी पूछताछ के लिए बुलाया गया। कर्मचारियों से कई बार पूछताछ की गई ताकि संस्था से चलने वाले अवैध कामों के बारे में जानकारी जुटाई जा सके। जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ती गई वैसे-वैसे पुलिस की कहानी में झोल आते गए। जांच के घेरे में पहली बार संस्था के आस-पास दुकान चलाने वाले लोग आए हैं। आधा दर्जन लोगों से लंबी पूछताछ कर घटना के बारे में टीम ने जानकारी जुटाई। सूत्रों का कहना है कि शाम को संस्था पर आने वाली गाड़ियों के बारे में पूछताछ की गई। गिरिजा के करीबियों के बारे में भी जानकारी जुटाने की कोशिश की गई।

Posted By: Jagran