गोरखपुर, जेएनएन। प्यार परवान चढ़ा तो जर्मनी की बेटी हाईके ने फरेंदा क्षेत्र के सिधवारी गांव निवासी इंद्रजीत चौधरी के साथ सात फेरे लेकर जीने -मरने की कसम खाईं। बीते 17 मई को इंद्रजीत के घर दोनों की शादी धूमधाम के साथ संपन्न हुई। विदेशी बहू ने अपने कार्य-व्यवहार से चंद दिनों में ही ससुराल में सभी का दिल जीत लिया है। यहां के लोग पलक -पावड़े बिछाकर परिवार के नए सदस्य का स्वागत कर रहे हैं।

गांव के निवासी मेजर गणेश चौधरी के बड़े पुत्र इंद्रजीत पश्चिम बंगाल के चितरंजन स्थित अपने नाना के यहां प्रारंभिक पढ़ाई पूरी करने के बाद 2012 में बायोटेक करने के लिए दक्षिण कोरिया चले गए। यहीं पर जर्मनी की रहने वाली हाईके भी पढ़ रही थी। पढ़ाई के दौरान दोनों की दोस्ती का रिश्ता कब प्यार में बदल गया , पता ही नहीं चला। पढ़ाई पूरी होने के बाद इंद्रजीत जर्मनी में नौकरी करने लगे। समय बीतने के साथ ही दोनों ने शादी करने का निर्णय लिया। बीते 17 मई को दोनों की धूम-धाम के साथ सिधवारी गांव में शादी हुई।

दामाद व बेटी को आशीष देन के लिए लड़की के पिता व बहन भी गांव में पहुंचे। धूम -धाम से हुई शादी का यहां के ग्रामीणों ने भी जम कर लुफ्त उठाया। 23 मई तक दोनों गांव में रहने के बाद दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। वहां कागजी औपचारिकता पूरी कर दोनों का जर्मनी जाने का कार्यक्रम हैं। इंद्रजीत के छोटे भाई अभिषेक बताते हैं कि भाभी हाईके व उनके परिवार के सदस्य पहली बार भारत आए थे। यहां लोगों का प्यार दुलार पाकर वे बेहद खुश हैं। भाभी नमस्ते कर सभी का अभिवादन स्वीकार कर रहीं थीं ।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप