प्रदीप श्रीवास्‍तव, गोरखपुर। लखनऊ में कमलेश तिवारी की हत्‍या के बाद गोरखपुर में माहौल खराब करने की साजिश रची जा रही है। एक Facebook आइडी से भाजपा के पार्षद अशोक पाल की हत्‍या की खबर चलने के बाद दिन भर अफरातफरी रही। अशोक पाल नाम का कोई पार्षद गोरखपुर नगर निगम में नहीं हैं। भाजपा के नेता दिन भर इसकी सफाई देते रहे।

इस Facebook आइडी से फैलाई गई अफवाह

ब्राह्मण हर्ष पराशर के नाम से बनी एक फेक Facebook आइडी से रविवार दोपहर को पोस्‍ट की गई कि - गोरखपुर - भाजपा पार्षद अशोक पाल की गोली  मारकर हत्‍या। सबका साथ सबका स्‍वर्गवास, हिंदू कायरों तलवार उठाओ। इसके बाद से यह खबर जंगल में आग की तरह सोशल मीडिया में फैलने लगी।

भाजपा के पार्षद हैं गिरिजेश पाल

दरअसल, अशोक पाल नाम का कोई पार्षद भाजपा ही नहीं गोरखपुर की किसी भी पार्टी में पार्षद नहीं है। भाजपा के एक पार्षद हैं गिरिजेश पाल। दोनो नामाें में पाल जुड़ा होने के कारण लोगों को लगा कि गिरिजेश पाल की हत्‍या हो गई है। इसके बाद से गिरिजेल पाल और भाजपा नेताओं के पास लगातार फोन घनघनाने लगे। पार्षद और भाजपा नेता दिन भर लोगों को सफाई देते रहे।

परेशान है गिरिजेश पाल का परिवार

सोशल मीडिया पर अफवाह फैलने के बाद भाजपा पार्षद गिरिजेश पाल का परिवार परेशान हैं। गिरिजेश पाल ने बताया कि जब से यह अफवाह फैली है तब से शुभचिंतकों के लगातार फोन आ रहे हैं।

भाजपा महानगर अध्‍यक्ष ने कहा, अफवाहों पर ध्‍यान न दें लोग

भाजपा महानगर अध्‍यक्ष राहुल श्रीवास्‍तव ने कहा कि लोग अफवाहों पर ध्‍यान न दें। असमाजिक तत्‍व माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे लोगों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करवाई जाएगी। भाजपा पार्षद दल के उप नेता ऋषि मोहन वर्मा ने कहा कि इस संबंध में पुलिस अधिकारियों से बात हुई है। अधिकारियों ने जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्‍वासन दिया है।

सक्रिय हुई पुलिस

सोशल मीडिया पर अफवाह फैलने के बाद पुलिस भी सक्रिय हुई। गोरखपुर के वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक डा. सुनील गुप्‍ता ने कहा कि ऐसी अफवाह सोशल मीडिया पर फैलने की सूचना मिली है। जांच कराई जा रही है। माहौल बिगाड़ने वालों को किसी भी दशा में बक्‍शा नहीं जाएगा। दोषियाें पर कड़ी कार्रवाई होगी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस