गोरखपुर, जागरण संवाददाता। आसमान में बादल तो हैं पर छिटपुट और बिखरे हुए। उनकी यह बेबसी धूप की चमक की वजह है। यह सिलसिल अभी दो दिन रहेगा। दो दिन बाद बारिश का वायुमंडलीय माहौल तो तैयार हो रहा है लेकिन वह बहुत असरकारी होगा, इसपर मौसम विज्ञानी को संदेह है।

दक्षिण-पूर्व राजस्‍थान के ऊपर बन रहा हवा का कम दबाव

मौसम विज्ञानी कैलाश पांडेय ने बताया कि दक्षिण-पूर्व राजस्थान के ऊपर हवा के कब दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इसके अलावा निम्न वायुदाब की एक पट्टी राजस्थान से निकलकर मध्य प्रदेश और झारखंड होते हुए बंगाल दीघा तक जा रही है। इसके चलते दो दिन बाद पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में बूंदाबादी से लेकर हल्की बारिश की संभावना बन रही है। मगर इससे पहले आमतौर पर मौसम साफ रहेगा। बादल आसमान में मडराएंगे, मगर बारिश की वजह नहीं बन सकेंगे।

तापमान में आएगी गिरावट

फिलहाल सूर्य जैसे-जैसे मकर रेखा की ओर बढ़ रहा है तापमान में गिरावट दर्ज की जाने लगी हैै। 22 सितंबर की सुबह का तापमान 25.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। ऐसे में तेज धूप के बाद भी लोगों को गर्मी का अहसास कम ही हुआ। मौसम विज्ञानी के अनुसार अब कुछ दिनों तक गोरखपुर का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस के इर्दगिर्द रहेगा। उसके बाद तापमान में और गिरावट दर्ज की जाएगी।

फिलहाल औसत से कम हुई है सितंबर में बारिश

मौसम विज्ञानी ने बताया कि सितंबर में बारिश का औसत आंकड़ा 228 मिलीमीटर है जबकि 22 सितंबर तक 202 मिलीमीटर बारिश ही रिकार्ड की जा चुकी है। ऐसे में अभी बारिश का आंकड़ा 26 मिलीमीटर कम है। हालांकि वह इस बात का पूर्वानुमान लगा रहे है महीना खत्म होने तक बारिश का आकड़ा औसत तक पहुंच जाएगा। ऐसा इसलिए की अभी महीना समाप्त होने तक दो बार बारिश की वायुमंडलीय परिस्थितियां बन रही हैं। पहली दो दिन बाद और दूसरी सितंबर के आखिरी तीन दिनों। दो बार की बारिश में 20 से 30 मिलीमीटर बारिश का पूर्वानुमान जताया जा रहा है।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi