गोरखपुर, जेएनएन। दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय और अनुदानित महाविद्यालयों में संचालित होने वाले सेल्फ फाइनेंस कोर्स की विश्वविद्यालय प्रशासन निगरानी कराने का फैसला किया है। निगरानी के लिए विश्वविद्यालय की ओर से एक सेल्फ फाइनेंस कोर्स सेल गठित किया है। सोमवार को गठित इस सेल का कार्यकाल दो वर्ष होगा।

आचार्य प्रो. सुग्रीव नाथ तिवारी बनाए गए सेल के निदेशक

सेल के निदेशक की जिम्मेदारी भौतिक विज्ञान विभाग के आचार्य प्रो. सुग्रीव नाथ तिवारी को दी गई है। उप निदेशक पद के लिए विश्वविद्यालय से बाहर के व्यक्ति को नामित किया जाएगा। सहायक निदेशक भूगोल विभाग की डा. रुचिका सिंह और गणित विभाग के डा. ज्ञानवेंद्र प्रताप सिंह को बनाया गया है। यह सेल सेल्फ फाइनेंस कोर्स का संचालन करेगी। इन कोर्सों से जुड़े सभी संवाद सेल के माध्यम से ही किए जाएंगे। विश्वविद्यालय से बाहर संवाद के लिए सेल के पदाधिकारियों को कुलपति से अनुमति लेनी होगी। बजट की स्वीकृति, शिक्षकों का वेतन, आॢथक और तकनीकी फैसले निदेशक द्वारा की कार्यवाही के साथ ही स्वीकार किए जाएंगे।

विश्वविद्यालय और अनुदानित महाविद्यालय में संचालित कोर्स की निगरानी करेगा यह सेल

सेल की जिम्मेदारी होगी कि वह कोर्स के संचालन यूजीसी के नियमों का पालन सुनिश्चित करे। गेस्ट फेकेल्टी और पार्ट टाइम शिक्षक की व्यवस्था तकनीकी स्किल कोर्स में फंड की उपलब्धता के आधार पर सेल द्वारा तय की जाएगी। पूर्णकालिक शिक्षकों को अतिरिक्त कक्षा लेने के लिए अनुमोदित किया जाएगा। सेल्फ फाइनेंस कोर्स सेल विश्वविद्यालय की नियमावली, गाइड लाइन, राज्य सरकार के निर्देश, राजभवन और यूजीसी की गाइड लाइन का अनुपालन पीएचडी, पीजी, यूजी, डिप्लोमा कोर्स, सर्टिफिकेट कोर्स और एड आन कोर्स में सुनिश्चित करेगी। कुलपति प्रो. राजेश सिंह ने बताया कि इस सेल का गठन सेल्फ फाइनेंस कोर्स को सही ढंग से पूरी उपयोगिता के साथ संचालित करना है। सेल यह सुनिश्चित करेगा कि जिस मकसद से जो कोर्स लाया गया है, वह हर हाल में पूरा हो।

Edited By: Satish chand shukla