कुशीनगर : सिपाही की पिटाई मामले में आरआइ ओमप्रकाश यादव समेत पांच पुलिसकर्मियों के विरुद्ध नगर कोतवाली में शुक्रवार को मारपीट सहित कई धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया गया है। सिपाही ने गुरुवार को तहरीर देकर आरआइ व अन्य आरोपितों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की थी।

कोतवाल अनुज कुमार सिंह ने बताया कि सिपाही देवेंद्र कुमार चौरसिया की तहरीर पर आरआइ समेत पांच पुलिसकर्मियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर विवेचना की जा रही है।

इन पर दर्ज हुआ मुकदमा

आरआइ ओमप्रकाश यादव, मुंशी शिव कुमार यादव, कांस्टेबल राहुल कुमार यादव, चंद्र प्रकाश यादव, सेचू यादव पर मुकदमा दर्ज हुआ है। यह सभी पुलिस लाइन में तैनात हैं।

यह था प्रकरण

सिपाही देवेंद्र कुमार चौरसिया पुलिस लाइन में तैनात हैं। पुलिस अधीक्षक से उन्होंने शिकायत की थी कि बीते 11 सितंबर की शाम को आरआइ के मुंशी ने 12 सितंबर को सेवरही में मुख्यमंत्री की सुरक्षा में ड्यूटी लगे होने की जानकारी दी थी। निर्धारित समय पर अपने तैनाती स्थल सेवरही पहुंचे। वहां पता चला कि ड्यूटी नहीं लगी है। अधिकारियों से वार्ता कर ड्यूटी की। उसी दिन शाम सात बजे गणना के लिए वह पुलिस लाइन पहुंचा। वहां मौजूद पुलिसकर्मियों के सामने आरआइ से जब ड्यूटी न लगाए जाने के बाद भी सेवरही भेजे जाने की शिकायत की तो आरआइ गणना के बाद अपने साथ कार्यालय कक्ष ले गए। वहां आरआइ व उनके सहयोगियों ने लाठियों से उसे बेरहमी से पीटा। सिपाही का आरोप है कि आरआइ सहयोगियों संग उसे डेढ़ किमी दूर जिला मुख्यालय स्थित सरकारी देशी शराब की दुकान ले गए। वहां दो शीशी शराब खरीदकर जबरदस्ती पिलाने की कोशिश किए। न पीने पर शराब उसके शरीर पर गिरा दिए और जबरन जिला अस्पताल ले जाकर वह मेडिकल कराए। रिपोर्ट में शराब पीने की पुष्टि नहीं हुई। इसके बाद आरआइ मुझे क्वार्टर गार्द के कमरे में ले जाकर बंद कर दिए। पूरी रात भूखे प्यासे रखा। अगले दिन सोमवार दोपहर बाद कमरे से बाहर निकाले।

शिकायत सुनने के बाद एसपी सचिन्द्र पटेल ने प्रकरण की जांच सीओ कसया को सौंप दी। सीओ की जांच में आरआइ व उनके सहयोगी दोषी पाए गए थे। इस आधार पर एसपी ने 18 सितंबर को आरआइ ओपी यादव, मुंशी शिव कुमार यादव समेत तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया था।

Edited By: Jagran