गोरखपुर, जागरण संवाददाता। बच्चों के कैंसर जागरूकता माह में कैंसर पीड़ित बच्चों को सौगात मिली है। कैनकिड्स संस्था के सहयोग से एम्स में ‘हेल्थ सिस्टम स्ट्रेंथनिंग- सुदृढ़ पीडियाट्रिक आंकोलाजी पार्टनरशिप गोरखपुर’ प्रोजेक्ट लांच किया गया। यहां पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार व नेपाल के उन बच्चों का उपचार हो सकेगा, जो कैंसर से पीड़ित हैं। इससे बड़ी राहत मिलेगी।

लोगों को जागरूक करेगी कार रैली

प्रोजेक्ट की लांचिंग एम्स के प्रशासनिक अधिकारी भूपेश चंद्र ने की। इस मौके पर कैंसर से जंग जीत चुके लोगों की कार रैली को भी रवाना किया गया। यह रैली पूर्वी उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में जाकर लोगों को कैंसर और इसके उपचार की सुविधा के बारे में जागरूक करेगी। इस रैली को उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने लखनऊ में मंगलवार को हरी झंडी दिखाई थी, जो बुधवार को गोरखपुर पहुंची।

इन जिलों में फैलाई जाएगी जागरूकता

बच्चों के कैंसर के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए यह रैली देवरिया, कुशीनगर, महराजगंज, मऊ, सिद्धार्थनगर, संत कबीरनगर, श्रावस्ती, बहराइच, गोंडा, बलरामपुर, बलिया, अयोध्या और बस्ती सहित अन्य जिलों का दौरा करेगी। इसमें शामिल लोग नुक्कड़ नाटक, समूह चर्चा आदि के माध्यम से लोगों को जागरूक करेंगे।

विशेषज्ञों ने साझा किया अनुभव

कैनकिड्स संस्था के मुख्य कार्यक्रम अधिकारी डा. हरेश गुप्ता ने बताया कि सितंबर, बच्चों के कैंसर का जागरूकता माह है। ‘कैंसर से पीड़ित बच्चों को जीवित रहना चाहिए और पनपना चाहिए, प्रारंभिक निदान जीवन बचाता है।’ हमारे इसी अभियान के अंतर्गत इस प्रोजेक्ट की लांचिंग की गई है। लांचिंग के बाद एम्स के बाल रोग विभाग की अध्यक्ष डा. महिमा मित्तल व बीआरडी मेडिकल कालेज के बाल रोग विभाग की अध्यक्ष डा. अनिता मेहता की उपस्थिति में ‘बाल कैंसर की चुनौतियों और देखभाल’ विषयक चर्चा आयोजित की गई। कैंसर से जंग जीत चुके लोगों ने अपने अनुभव भी साझा किए।

ये रहे मौजूद

इस अवसर पर कैनकिड्स के महाप्रबंधक निर्भय सिंह, केयर कोआर्डिनेटर सुगंधा कुमारी, डा. हरिशंकर जोशी, डा. अजीत यादव, डा. महीम, डा. शशांक, नसीम व शैला गिरि आदि उपस्थित थीं।

Edited By: Pragati Chand

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट