गोरखपुर, जेएनएन। प्रयागराज से कुशीनगर आते समय अयोध्या में हुई बस दुर्घटना के सदमे से छात्र उबर नहीं पाए हैं। वह ईश्‍वर को धन्‍यवाद देते नजर आए कि दुर्घटना के बाद सभी अपने घर पहुंच गए। हालांकि सात छात्र अभी अयोध्‍या जिला अस्‍पताल में ही भर्ती हैं। बाकी 18 छात्रों को इलाज के बाद अयोध्‍या से दूसरी बस में बैठाकर कुशीनगर भेज दिया गया। फैजाबाद डिपो की बस छात्रों को लेकर बुधवार की शाम कुशीनगर पहुंची। छात्रों को हाटा स्थित संत पुष्पा इंटरमीडिएट कॉलेज ले जाया गया। बस में 25 छात्र-छात्राओं सहित कुल 28 लोग सवार थे।

मालूम हो कि प्रयागराज में रहकर पढ़ाई कर रहे कुशीनगर के 25 विद्यार्थियों को मुख्‍यमंत्री के निर्देश पर बस से लाया जा रहा था। छात्रों की उम्र 24 साल से 30 साल तक की है। भोर में करीब चार बजे छात्रों की बस अयोध्‍या के पास ट्रक से टक्‍कर के बाद दुर्घटनाग्रस्‍त हो गई। उसमें सवार सभी छात्र गहरी नींद में थे।

क्‍या कहते हैं छात्र

हादसे के बारे में छात्रों की जुबानी सुन हर कोई सिहर उठा। चालक के ठीक पीछे बैठे कप्तानगंज क्षेत्र के गांव नाहर छपरा के राम बदन यादव ने बताया कि बस जब ट्रक से भिड़ी तब बस सवार लगभग सभी छात्र सो रहे थे। देर रात तक जगे होने से सभी जल्द ही घर पहुंचने की आस में आराम से सो रहे थे। अचानक धड़ाम से आवाज आई और नींद खुली तो अंधेरे में खुद को मौत के करीब देखा। चारों तरफ से बंद बस में चीख-पुकार गूंज उठी। कई छात्र घायल हो गए थे, जो उठ नहीं पाए। जिन छात्रों को कम चोट आई वे भी निकलने का रास्ता खोजने को लेकर बेबस दिखे। 

रमवलिया निवासी अक्षय कुमार पांडेय ने बताया कि थकान के चलते हम लोग सो गए। लेकिन एकाएक धड़ाम से आवाज सुनकर नींद टूट गई। उसके बाद सभी चिल्ला रहे थे। इससे बस में अफरा-तफरी दिखी और मेरे हाथ से भी खून निकल रहा था। हर कोई चीख-पुकार रहा था। इसके बाद जैसे-तैसे करके बस से बाहर निकले। असना निवासी दिलीप साहनी, बोदरवार निवासी शक्ति सिंह व शिवकुमार यादव, रविंद्र नगर निवासी अलीराज, साखोपार निवासी हुसैन, मठिया भोकरिया निवासी अरविंद कुशवाहा, बेदूपार निवासी देवब्रत सिंह, तुर्कपट्टी के सोंदिया के विवेक सिंह ने कहा कि तब सुबह के करीब चार बज रहे थे।

बस चालक को आ गई थी नींद

छात्रों ने बतया कि चालक को नींद आ गई जिससे बस आगे चल रहे ट्रक से जा भिड़ी। कुछ ही देर में स्थानीय लोग मदद के लिए आ गए। सूचना पर प्रशासनिक अमला भी तत्काल सक्रिय हो गया। एंबुलेंस से सभी को अस्पताल पहुंचाया गया। प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की टीम ने तत्परता दिखाई। अयोध्या के डीएम ने अस्पताल पहुंचकर जानकारी ली। वहां पर सात छात्रों को कुछ ज्‍यादा ही चोट लगी थी। इसलिए उन्‍हें जिला अस्‍पताल में भर्ती करा दिया गया। बाकी 18 छात्रों का इलाज करने के बाद खाने-पीने की व्यवस्था कराई गई। उसके बाद दूसरी बस से कुशीनगर भेज गया। कुशीनगर के डीएम भूपेंद्र एस चौधरी ने भी बात कर हाल जाना। हम लोगों से भी उन्हाेंने बात की।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस