सिद्धार्थनगर: आयोग्य भारत योजना के तहत पात्रों को बेहतर सुविधा मुहैया करने में सराहनीय पहल के लिए गुरुवार को सीएमओ डा. संदीप चौधरी ने पांच चिकित्सकों समेत आठ लोगों को सम्मानित किया। सभी को प्रमाण पत्र देकर उनके कार्यों को सराहा। सीएमओ डा. चौधरी ने कहा कि सरकार ने गरीबों को पांच लाख रुपये तक मुफ्त इलाज की सुविधा दी है। इस योजना को सफल बनाने के लिए सभी के किया जा रहा योगदान सराहनीय है। मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. सलिल श्रीवास्तव ने कहा कि जनपद में एक लाख 53 हजार लोगों का कार्ड बनाया जा चुका है। पांच हजार से अधिक लोगों ने इसका फायदा उठाया है। लोगों को जागरूक किया जा रहा है। संयुक्त जिला अस्पताल की सीएमएस डा. नीना वर्मा ने कहा कि जिला अस्पताल में तैनात डा. केके यादव, डा. सीबी चौधरी, डा. ध्रूव चौधरी,डा. अनूप यादव ने काफी मेहनत की है। जिला अस्पताल में योजना के तहत गंभीर रोगियों को इलाज किया जा रहा है।

इन्हें किया गया सम्मानित

बेहतर कार्य करने वाले जिला अस्पताल में तैनात हड्डीरोग विभाग के चिकित्सक डा. केके यादव, फिजीशियन डा. सीबी चौधरी, सर्जन डा. ध्रुव चौधरी, अस्पताल प्रबंधक डा. अनूप यादव, जिला कार्यक्रम समन्वयक डा. लक्ष्मी सिंह, प्रत्युष दुबे, आकाश और आरोग्य मित्र अनूप पांडेय शामिल रहे। 1100 को प्रथम तो 552 को लगी दूसरी डोज

सिद्धार्थनगर : विकास खंड क्षेत्र में गुरुवार को कुल 15 केंद्रों पर कोरोनारोधी टीकाकरण अभियान चलाया गया। कई केंद्रों पर सुबह से ही भीड़ दिखाई दी। सभी केंद्रों पर कुल 1652 को कोरोनारोधी टीका लगाया गया। इसमें 1100 को प्रथम तो 552 को दूसरे डोज की वैक्सीन लगाई गई।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर 18 वर्ष से ऊपर कुल 169 लोगों को टीका लगाया गया। एएनएम नीतू प्रजापति, सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी सपना, दिनेश श्रीवास्तव की टीम ने टीकाकरण सहित फीडिग के कार्य को पूर्ण किया।

संग्रामपुर में एएनएम विजय लक्ष्मी व सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी सीमा की टीम की ओर से टीकाकरण किया गया। कुल 130 को वैक्सीन लगाई गई। इसमें 84 को प्रथम तो 46 को दूसरे डोज का टीका लगा। इन दोनों केंद्रों के अलावा बजरा भारी, कठेला गर्वी, पचमोहनी, महादेव घुरहू, पिपरी बुजुर्ग सहित 13 अन्य केंद्रों पर टीकाकरण के लिए कैंप लगाया गया। ब्लाक कार्यक्रम प्रबंधक अनिल यादव ने बताया कि पर्याप्त टीका उपलब्ध होने के कारण सीएचसी सहित ग्रामीण क्षेत्रों में चिहित स्थानों पर कैंप लगाया गया। जहां कोरोनारोधी प्रथम व दूसरे डोज का टीका लगाया गया। एएनएम व सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया गया है कि वे आशा के सहयोग से ऐसे लोगों की खोज करके टीका लगवाएं, जो पहली डोज का टीका तो लगवा चुके हैं और दूसरे डोज का निर्धारित समय बीत जाने के बाद टीकाकरण नहीं करा सके हैं।

Edited By: Jagran