गोरखपुर, जेएनएन। कोरोना के कारण पिछले सात माह से बंद स्कूल सोमवार से खुले तो एक बार फिर से रौनक लाैट आई। स्कूलों में थर्मल स्कैनिंग व सैनिटाइजर से हाथ धुलवाकर बच्चों को अभिभावकों की सहमति पत्र दिखाने के बाद प्रवेश दिया गया। इस दौरान स्कूलों के प्रधानाचार्य व शिक्षक मुख्य द्वार पर मौजूद रहे। जिला विद्यालय निरीक्षक ने भी स्कूलों का दौरा कर कोविड-19 गाइड लाइन के तहत हुई व्यवस्था का जायजा लिया।

शहर के कार्मल, सेंट जोसफ स्कूल, एमपी, एमजी, राजकीय एडी व राजकीय जुबिली इंटर कालेज समेत सभी सरकारी निजी विद्यालय खुलते ही छात्र-छात्राएं पहुंचने लगे। इस दौरान लंबे अर्से बाद सभी ने एक दूसरे से हालचाल पूछा और पढ़ने के लिए अपनी-अपनी कक्षाओं की ओर बढ़ चले। स्कूल आने वाले सभी छात्र मास्क लगाए हुए थे। कार्मल स्कूल में छात्राओं ने हाथ में ग्लब्स व मास्क लगाकर प्रैक्टिकल से अपनी कक्षाओं की शुरुआत की। इस दौरान शिक्षकों ने उनसे पहले जल्द से जल्द प्रायोगिक परीक्षा से पूर्व अपने अधूरे पाठ्यक्रमों को पूरा करने को कहा और फिर उन्हें प्रैक्टिकल कराने में जुट गए।

दो पाली में हो रही पढ़ाई

पहली पाली में सुबह 8.50 से 11.50 बजे तक कक्षा 9 व 10वीं तो दूसरी पाली में दोपहर 12.20 से 3.20 बजे तक 11वीं व 12वीं के विद्यार्थियों को बुलाया गया है। 

डीआइओएस ने देखा सहमति पत्र

जिला विद्यालय निरीक्षक ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया ने स्कूलों का निरीक्षण कर वहां की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। सुबह लगभग 8.45 बजे डीआइओएस महात्मा गांधी इंटर कालेज पहुंचे और स्कूल आने वाले बच्चों से अभिभावकों द्वारा भेजा गया सहमति पत्र देखा। कई छात्र बिना सहमति पत्र के ही स्कूल आ गए थे। डीआइओएस ने उनके अभिभावकों से बात किया और उनकी अनुमति पर बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिया।

जिले में स्कूलों की संख्या

सीबीएसई: 113

आइसीएसई: 19

माध्यमिक विद्यालय: 485

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021