गोंडा: मौसम का मिजाज बदल रहा है। तपिश अब लोगों के लिए परेशानी पैदा कर रही है। सुबह से होने वाली तेज धूप के कारण दोपहर में सड़कों पर सन्नाटा पसर जाता है। यही नहीं, अब लोगों ने गर्मी के मौसम में ठंडा पानी पीने के लिए मिट्टी के घड़े खरीदने शुरू कर दिए हैं।

शुक्रवार की सुबह से मौसम लोगों को परेशान करने लगा। तेज धूप के साथ ही हवा चल रही थी। 20 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलीं। ऐसे में दोपहर में घर से बाहर निकले लोगों को दिक्कत हुई। लॉकडाउन के कारण आवश्यक कार्य होने पर ही लोग घरों से बाहर निकले। हालांकि पारा कुछ लुढ़का। गुरुवार को जिले का अधिकतम तापमान 40.8 डिग्री सेल्सियस था, शुक्रवार को अधिकतम तापमान 37.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। न्यूनतम तापमान 22.7 डिग्री सेल्सियस रहा।

डीएम डॉ. नितिन बंसल ने बताया कि गर्म हवाओं से बचने के लिए खिड़की को रिफ्लेक्टर जैसी पन्नी, गत्ते इत्यादि से ढककर रखें, ताकि बाहर की गर्मी को अंदर आने से रोका जा सके। जिन खिड़कियों व दरवाजों पर दोपहर के समय गर्म हवाएं आतीं हैं, काले परदे लगाकर रखना चाहिए। सूर्य के ताप से बचने के लिए जहां तक संभव हो घर में रहें। संतुलित, हल्का व नियमित भोजन करें। घर से बाहर निकलने पर अपने शरीर व सिर को कपड़े या टोपी से ढककर रखें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस