गोंडा : साथी की हत्या के विरोध में गुरुवार को अधिवक्ताओं ने कार्य बहिष्कार करते हुए विरोध जताया। हत्या आरोपितों को तत्काल गिरफ्तार करने के साथ ही पीड़ित परिवार को 50-50 लाख रुपये का मुआवजा देने की मांग की। साथ ही विभिन्न मांगों को लेकर मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन डीएम डॉ. नितिन बंसल को सौंपा।

सिविल बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विवेकमणि श्रीवास्तव व जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष रविचंद्र त्रिपाठी की अगुवाई में अधिवक्ताओं ने कार्य बहिष्कार किया। अध्यक्ष ने कहा कि लखनऊ में अधिवक्ता शिशिर त्रिपाठी व प्रयागराज में सनाउल्लाह की हत्या करने वाले आरोपितों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए। सरकार पीड़ित परिवारों को तत्काल 50-50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करे। अधिवक्ताओं के साथ पुलिस द्वारा दु‌र्व्यवहार किए जाने की घटनाओं पर नाराजगी जताते हुए इस पर रोक लगाने की मांग की। सभी न्यायालयों के साथ ही अधिवक्ताओं की सुरक्षा का इंतजाम करने की मांग की। प्रदर्शन करने वालों में महामंत्री महेश कुमार सिंह, राम बुझारत द्विवेदी, विजय कुमार मिश्र, विदेश्वरी प्रसाद दुबे, आशुतोष पांडेय, मनोज कुमार श्रीवास्तव, अलंकार सिंह शामिल रहे। इनसेट

क्या हैं प्रमुख मांगें

-अधिवक्ताओं के हत्यारोपितों की तत्काल गिरफ्तार की जाए।

-आश्रितों को 50-50 लाख रुपये मुआवजा दिया जाए।

-प्रदेश में अधिवक्ता प्रोटेक्शन एक्ट लागू किया जाए।

-जूनियर अधिवक्ताओं को हर माह दस हजार रुपये प्रोत्साहन राशि दी जाए।

-अधिवक्ता कल्याण निधि में 500 करोड़ रुपये कापर्स फंड दिया जाए।

-वृद्ध अधिवक्ताओं के लिए प्रतिमाह पेंशन की व्यवस्था की जाए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस