संसू, गोंडा : बंजर जमीन पर हरियाली लाने के साथ ही पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए पौधारोपण अभियान पूरा हो गया है। मिशन 30 करोड़ के तहत जिले में 50.10 लाख पौधे की रोपाई हुई है। सरकारी व निजी जमीन पर रोपे गए 70 फीसद पौधे की जियो टैगिग पूरी होने का दावा किया गया है। अभियान में सभी लोगों की भागीदारी सुनिश्चित कराने के साथ ही स्मृति उपवन व औषधि वाटिका की भी स्थापना कराई गई है। इन पौधों के सुरक्षा की जिम्मेदारी संबंधित विभाग के अधिकारियों को सौंपी गई है।

----------

नंबर गेम

- 1214 जिले में ग्राम पंचायत

- 07 जिले में नगर निकाय

- 49.47 लाख पौधे का था लक्ष्य

- 50.10 लाख पौधे की हुई रोपाई

- 27 विभागों मिलकर कराया पौधारोपण

- 18.04 लाख पौधे वन विभाग ने लगाए

- 18.06 लाख पौधे ग्राम्य विकास विभाग ने लगवाए

- 27 नर्सरी में तैयार किए गए पौधे

- 1.03 करोड़ पौधे नर्सरी में हुए तैयार

-----------

इन पौधों की हुई रोपाई

- सागौन, शीशम, सहजन, नीम, अर्जुन, जामुन, बेल, महुआ, इमली, फाइकस, अमरूद, आवंला, करौंदा, शरीफा, बेल, नीमू, जामुन के पौधे की रोपाई कराई गई।

--------------

स्मृति उपवन की स्थापना

- कर्नलगंज के ठाकुर रामजानकी मंदिर कर्नलगंज में स्मृति उपवन की स्थापना कराई गई है। यहां लोगों ने अपने प्रियजन की याद में पौधे की रोपाई की। कोरोना संक्रमण के कारण मृत हुए लोगों की स्मृति में पौधारोपण कराया गया। इसके अलावा सकरौरा में दो हेक्टेयर भूमि पर औषधीय वाटिका की स्थापना कराई गई। जिला अस्पताल में कोरोना वारियर्स की स्मृति में पौधा लगाया गया।

--------------

बोले जिम्मेदार

जिले में पौधारोपण अभियान के तहत निर्धारित लक्ष्य से अधिक पौधे की रोपाई हुई है। करीब 70 फीसद पौधे की जियो टैगिग पूरी हो गई है। संबंधित विभाग के अधिकारियों को पौधों की सुरक्षा कराने की जिम्मेदारी दी गई है।

- आरके त्रिपाठी, डीएफओ गोंडा

Edited By: Jagran