Move to Jagran APP

DM मैडम सुन रही थीं शिकायतें, तभी कुछ ऐसा हुआ; एक झटके में हकीकत से हो गईं रूबरू

कर्नलगंज तहसील सभागार में फरियादियों की लाइन लगी हुई थी। जिलाधिकारी नेहा शर्मा बारी बारी से सभी को सुन रहीं थीं। तभी अचानक बिजली गुल हो गई। 44.2 डिग्री सेल्सियस तापमान में सभी की हालत खराब हो गई। पसीने टप टप होने लगे। जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने नाराजगी जताते हुए अधिशासी अभियंता बिजली को फटकार लगाई। जनरेटर मंगाया गया लेकिन वह दो घंटे नहीं चल सका।

By Varun Yadav Edited By: Aysha Sheikh Sat, 15 Jun 2024 06:42 PM (IST)
DM मैडम सुन रही थीं शिकायतें, तभी कुछ ऐसा हुआ; एक झटके में हकीकत से हो गईं रूबरू

जागरण टीम, गोंडा। सुबह के 11 बज रहे थे। कर्नलगंज तहसील सभागार में फरियादियों की लाइन लगी हुई थी। 44.2 डिग्री सेल्सियस तापमान में अफसर व फरियादी पसीने से तरबतर नजर आए। सुनवाई के दौरान अचानक बिजली गुल हो गई। अफसरों ने लो-वोल्टेज की समस्या बताई।

जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने नाराजगी जताते हुए अधिशासी अभियंता बिजली को फटकार लगाई, इसके बाद एसडीएम के कक्ष में डीएम व एसपी विनीत जायसवाल ने जन शिकायतों की सुनवाई की। बिजली विभाग तहसील में खराबी खोज ही रहा था तभी बिजली के चैंबर से चिंगारी निकलने लगी।

दो घंटे नहीं चला जनरेटर

जनरेटर मंगाया गया लेकिन वह दो घंटे नहीं चल सका। अंदर अधिकारी इन्वर्टर से पंखा चलाकर शिकायत सुन रहे थे जबकि, फरियादी बरामदे में पसीने से तरबतर दिखे। यहां 117 शिकायतें आईं, लेकिन निस्तारण एक भी शिकायत का नहीं हो सका। एसडीएम भारत भार्गव, सीओ चंद्रपाल शर्मा व तहसीलदार मनीष कुमार उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें - 'साहब! बेटे की मौत के बाद...' लड़खड़ाती हुई DM के पास पहुंची महिला, कंपकपाते शब्दों में बताई बहू की शर्मनाक हरकत

गोंडा सदर तहसील में मंडलायुक्त शशिभूषण लाल सुशील, डीआइजी एपी सिंह, सीडीओ एम. अरून्मोली ने शिकायतों की सुनवाई करके संबंधित अधिकारियों को निस्तारण के निर्देश दिए। यहां छह अधिकारी अनुपस्थित मिले। संबंधित के खिलाफ कार्रवाई के लिए रिपोर्ट डीएम को भेजी गई है।

  • तरबगंज : एडीएम चंद्रशेखर की अध्यक्षता में संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन किया गया। यहां 65 शिकायतें आईं। एसडीएम विशाल कुमार, तहसीलदार केशव प्रसाद उपस्थित रहे।
  • मनकापुर : एसडीएम यशवंत राव ने संपूर्ण समाधान दिवस में जनशिकायतों की सुनवाई की। यहां आई 132 शिकायतों में से सिर्फ तीन का ही मौके पर निस्तारण हो सका।