जासं, गाजीपुर : मानव धर्म प्रसार प्रवर्तन समाजसेवी संस्था बयेपुर देवकली के रामनिवास बिद के अहाते में तीन दिवसीय सातवां वार्षिक सम्मेलन में संतों का प्रवचन सुनकर लोग धन्य हो गए। संत दयाराम दास ने कहा कि इस धरती पर जो भी माता पिता गुरु देवता के आदेशों का अनुपालन नहीं करता  तथा साधु-संतों से अपनी सेवा करवाता है वही दानव है और जो अपने माता पिता गुरु बड़े लोगों के आदेश का पालन करते हैं। वही सच्चे मानव कहलाने के अधिकारी हैं। संत राहुल महाराज ने कहा कि जिसके जीवन में मां हो उसके जीवन में किसी भी चीज की जरूरत नहीं है। इस धरती पर  माता पिता गुरु का सबके ऊपर ऋण होता है पिता गुरु के कर्ज से मुक्ति मिल सकती है । लेकिन जीवन में माता के ऋण से कभी भी मुक्ति नहीं मिल सकती मां की ममता के आंचल में बड़ी ताकत होती है। सम्मेलन में प्रभुनाथ, विजय बहादुर, अंबिका, रामनरेश, परमहंस, जयप्रकाश, संत भोला दास, विजेंद्र दास, नंदलाल दीनबंधु, राजा पासवान, राधेश्याम पासवान, उदय पासवान, सुनील सूर्य बली आदि थे। संचालन सुखपाल दास एवं आभार आयोजक राम निवास बिद ने जताया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप