जासं, करीमुद्दीनपुर (गाजीपुर) : सैलून संचालक संजय प्रजापति उर्फ बेचू की बदमाशों द्वारा दुकान में घुसकर की गई हत्या से आक्रोशित ग्रामीणों व दुकानदारों ने दुकान बंदकर शुक्रवार को स्थानीय गांव के पास मुहम्मदाबाद-चितबड़ागांव मार्ग जाम कर दिया। लोगों ने डीएम-एसपी को मौके पर बुलाने, मुआवजे और हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग की। करीब तीन घंटे बाद कासिमाबाद एसडीएम व एसपी ग्रामीण के आश्वासन पर लोग माने।

थाना क्षेत्र के करीमुद्दीनपुर बाजार में गुरुवार की रात दो बदमाशों ने बेचू प्रजापति की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस दुस्साहसिक वारदात से नाराज दुकानदार व ग्रामीण सुबह साढ़े आठ बजे जाम लगा दिया। सूचना पर पहुंची स्थानीय पुलिस लोगों को समझाने-बुझाने का प्रयास करती रही, लेकिन वे हत्यारों की गिरफ्तारी व मुआवजे की मांग पर अड़े रहे। सुबह करीब साढ़े 11 बजे कासिमाबाद एसडीएम मंशाराम वर्मा, एसपी ग्रामीण चंद्रप्रकाश शुक्ला, मुहम्मदाबाद सीओ चंद्रप्रकाश पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे व पीड़ित परिवार को शासन से पांच लाख मुआवजा व हत्यारों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। तब जाकर तीन घंटे बाद ग्रामीणों ने जाम समाप्त कराया। थानाध्यक्ष अशेषनाथ सिंह ने बताया कि मृतक के पिता की तहरीर पर अज्ञात हत्यारों के खिलाफ मुकदमा दर्जकर जांच शुरू कर दी गई है।

दहशत इतना कि कोई मुंह खोलने को नहीं है तैयार

हत्या की वारदात से दुकानदारों में इतना दहशत व्याप्त है कि कोई भी मुंह खोलने को तैयार नहीं है। पुलिस हत्यारों को पकड़ने के लिए उनका पहचान बतलाने के लिए लोगों से पूछताछ का प्रयास कर रही है, लेकिन सफलता नहीं मिल पा रही है।

------

पिता की हत्या से बेखबर थे मासूम

बेचू की हत्या से परिजन दहाड़े मारकर रो रहे थे। पत्नी किरन रोते-रोते बेसुध हो जा रही थी। ग्रामीणों के भीड़ परिवार के सदस्यों को सांत्वना देने में लगी थी। इधर मासूम पुत्र यशनाथ, ईशा व निशा के समझ में ही नहीं आ रहा था कि आखिर दादा व मां क्यों रो रहे हैं।

-सैलून संचालक संजय प्रजापति उर्फ बेचू के हत्यारों को चिन्हित करने के लिए तीन टीमें गठित कर दी गईं हैं। हम कई पहलुओं पर पड़ताल को आगे बढ़ा रहे हैं। जल्द ही आरोपितों को चिन्हित कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

-डा. अरविद चतुर्वेदी, पुलिस अधीक्षक।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप