जासं, गाजीपुर : कोरोना संकट काल में स्वास्थ्य विभाग की ओर तमाम एहतियात बरता जा रहा है, जिससे संक्रमण का फैलाव न हो सके। इसी क्रम में मेडिकल मोबाइल यूनिट गांव-गांव पहुंचकर लोगों की थर्मल स्कैनिग करने में जुटा है। इस दौरान शरीर का तापमान अधिक होने पर संदिग्ध मानकर जांच के लिए रेलवे जोनल ट्रेनिग सेंटर भेजा जाता है। जनपद के विभिन्न ब्लाकों व ग्रामीण क्षेत्रों में जाने के लिए रूट चार्ट निर्धारित है, जिसकी अधिकारियों द्वारा मानीटरिग की जाती है।

शासन की ओर से करीब छह माह पूर्व ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को बेहतर चिकित्सकीय सेवा प्रदान करने के लिए जनपद तीन मेडिकल मोबाइल यूनिट से लैस किया गया। इसमें तैनात डाक्टर व स्वास्थ्य कर्मियों की टीम लगातार गांव-गांव पहुंच कर ग्रामीणों को बेहतर चिकित्सकीय सेवा प्रदान करने में जुटी है। इसी बीच कोरोना संकट काल व विभिन्न प्रांतों से ग्रामीण क्षेत्रों मे लौटे प्रवासियों की जांच कराना निश्चित किया गया। स्वास्थ्य विभाग ने इस कार्य के लिए सर्वे व निगरानी टीम लगाने के साथ मेडिकल मोबाइल यूनिट में तैनात टीम को थर्मल स्कैनिग का जिम्मा सौंपा, जिससे संदिग्ध पाए जाने पर उनके स्वैब की जांच कराई जा सके। ----------------

174 की रिपोर्ट आई निगेटिव 

कुछ दिन पूर्व संक्रमितों के संपर्क में आए संदिग्धों व प्रवासियों की जांच के लिए स्वैब भेजा गया था। इसमें 174 की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने राहत की सांस ली। साथ ही शेष पेंडिग रिपोर्ट पर मेडिकल टीम की नजर बनी हुई है।  ------------

मेडिकल मोबाइल यूनिट की टीम लोगों का इलाज करने के साथ उनका थर्मल स्कैनिग भी कर रही है। संदिग्ध पाए जाने पर टीम द्वारा रेलवे जोनल ट्रेनिग सेंटर भेजा जाता है।

- डा. जीसी मौर्या, सीएमओ 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021