जागरण संवाददाता, कासिमाबाद (गाजीपुर) : क्षेत्र की ग्राम पंचायत शेखनपुर में रविवार की भोर में लगातार बारिश के चलते दोबारा जमीन धंस गई। भरत पासी का शौचालय व बरामदा जमींदोज हो गया। करीब 10 फीट लंबी व छह फीट गहरी जमीन धंसने से ग्रामीणों में दहशत है। संयोग से उस घर में कोई रहता नहीं। एसडीएम भारत भार्गव व लेखपाल सुष्मिता सिंह ने मौके पर पहुंचकर मौका का जायजा लिया। वहां पर किसी को न जाने की सलाह दी।

भोर में भरत पासी के घर के सामने अचानक जमीन धंसने से ग्रामीण दहशत में आ गए। बीते जनवरी में भी इनकी जमीन धंस चुकी थी। उसमें मिट्टी की भराई नहीं हुई थी। बारिश होते ही उसमें पानी भर गया है। इसके चलते शौचालय जमीन में धंस गया। ऊपर से केवल उसकी छत दिखाई दे रही है। बीते जनवरी में भी भरत पासी के घर के सामने 25-30 फीट जमीन धंस गई थी। उस समय इससे सात परिवार प्रभावित हुए थे। भरत पासी, तारा देवी पत्नी स्व. शंकर पासी, रामदास राजभर, रामलाल गौड़, संतोष पासी, राजकुमारी पासी व शारदा देवी पत्नी स्व. भीष्म पासी का मकान क्षतिग्रस्त हो गया था। सभी का सामान प्राथमिक विद्यालय शेखनपुर में रखवा कर उनके रहने का भी इंतजाम करा दिया गया था। वर्तमान में सभी वहीं पर रहते हैं। उस समय जिलाधिकारी के निर्देश पर भूगर्भ विभाग की टीम ने सर्वे की थी। जमीन धंसने का कारण सबमर्सिबल पंप का बोरिग गांव में ज्यादा होना बताया था।

----- प्रधानमंत्री आवास योजना का दिया जाएगा लाभ

ग्रामीणों का कहना है कि भरत पासी के घर के सामने जहां पहले भी जमीन धंसी थी, उसमें मिट्टी नहीं डाली गई। इसके चलते कई दिनों से लगातार बारिश होने के चलते रात में जमीन खिसक गई। इससे शौचालय व बरामदा जमींदोज हो गया। इधर, उपजिलाधिकारी भारत भार्गव ने बताया कि जमीन धंसने से विस्थापित हुए परिवारों को जमीन आवंटित कर दी गई है। शीघ्र ही उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिया जाएगा।

Edited By: Jagran