जासं, गाजीपुर : पंचायत चुनाव के लिए बीएलओ की ड्यूटी न करना बेसिक शिक्षा विभाग के 10 शिक्षको को महंगा पड़ा। खंड शिक्षाधिकारी सैदपुर की रिपोर्ट पर बेसिक शिक्षाधिकारी ने उनका वेतन अगले आदेश तक रोक दिया है। इसमें पांच सहायक अध्यापक व पांच शिक्षामित्र हैं। उन्हें नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण भी मांगा गया है। इससे संबंधित शिक्षकों में हड़कंप मचा हुआ है।

इसमें चंद्रिका प्रसाद- सहायक अध्यापक उच्च प्राथमिक विद्यालय मढि़या, शीला- सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय लोहजरा, चंद्रभान सरोज- सहायक अध्यापक उच्च प्राथमिक विद्यालय मठसरैया, सीमा कुमारी- सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय अलायचक, विनय कश्यप- सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय तेतारपुर, इंद्रावती- शिक्षामित्र प्राथमिक विद्यालय महरूमपुर, राबिया बेगम- शिक्षमित्र प्राथमिक विद्यालय शादीभादी, पद्मा पाठक- शिक्षामित्र प्राथमिक विद्यालय पठखौली, श्रेया यादव- शिक्षामित्र प्राथमिक विद्यालय फुलवारी व मंजू पाठक- शिक्षामित्र प्राथमिक विद्यालय बहदिया शामिल हैं। इन सभी सहायक अध्यापकों व शिक्षामित्रों की ड्यूटी सैदपुर तहसील कार्यालय द्वारा लगाई गई थी। इन्हें कई बार सूचित किया गया लेकिन उन्होंने कार्यालय से अपनी ड्यूटी प्राप्त नहीं की। इस पर खंड शिक्षाधिकारी ने अपनी रिपोर्ट बनाकर बेसिक शिक्षाधिकारी को भेज दी।

-

बीएलओ की ड्यूटी न करना कर्मचारी आचार संहिता की अवहेलना है। इससे राजकीय कार्य में बाधा आयी है। इसके चलते उक्त सहायक अध्यापकों व शिक्षामित्रों का वेतन रोका गया है।

-श्रवण कुमार, जिला बेसिक शिक्षाधिकारी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस