जागरण संवाददाता, मुहम्मदाबाद (गाजीपुर) : नगर स्थित यूसुफपुर रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधा का अभाव होने से यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। हालत यह है कि लोगों को न तो पीने को शुद्ध पेयजल उपलब्ध हो पा रहा है और न ही रात में प्लेटफार्म पर रोशनी।

रेलवे की ओर से यूसुफपुर रेलवे स्टेशन के सुंदरीकरण को लेकर काफी धनराशि खर्च की गई है। यात्री सुविधा बढ़ाने के नाम पर प्लेटफार्म एक पर पेयजल के लिए नल की टोटी लगाई गयी। इसके लिए काफी धन खर्च कर पत्थर व टाइल्स लगाकर स्टैंड भी बनाया गया है। दो जगहों पर बने इस टोटी वाले नल की हालत यह है कि करीब दो वर्ष पूर्व इसका निर्माण कार्य तो पूर्ण करा दिया गया लेकिन आज तक उसकी टोटी से एक बूंद पानी नहीं निकल सका। दो वर्ष पूर्व पूर्वोत्तर रेलवे के तत्कालीन महाप्रबंधक के आने के दौरान विभाग के जिला स्तरीय अधिकारियों व ठेकेदारों ने बाकायदा छत पर प्लास्टिक की करीब छह टंकी व उसमें पाइप आदि लगाकर यह साबित करने का प्रयास किया था कि पेयजल की सुगम व्यवस्था हो गई है लेकिन आज भी हालत जस का तस है। यात्रियों को आज भी प्लेटफार्म पर लगाए गए हैंडपंप के पानी का सहारा लेना पड़ रहा है। प्लेटफार्म एक व दो पर प्रकाश के लिए खंभा लगाकर स्ट्रीट लाइट लगाया गयी थी जिसमें कुछ खराब हो गए तो कुछ खंभों से ही गायब हो गए। हालत यह है कि प्लेटफार्म के शेड के अलावा पूरे प्लेटफार्म पर अंधेरा पसरा रहता है। ऐसे में लोगों को रात में जहां आरक्षित बोगी खोजने में परेशानी होती है वहीं असामाजिक तत्व भी छिनैती आदि की घटनाओं को अंजाम देते रहते हैं। इस स्टेशन पर सुविधा के नाम पर तो काफी धन खर्च किया गया है लेकिन वह ठेकेदारों व अधिकारियों के भेंट चढ़ गया है, जिसके चलते उसका लाभ आम लोगों को नहीं मिल पा रहा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप