संवाद सहयोगी, लोनी : बार्डर थाना क्षेत्रांतर्गत टीला शहबाजपुर गांव के प्रापर्टी डीलर ने बृहस्पतिवार रात साथियों से परेशान होकर जहर खा लिया। प्रापर्टी डीलर की उपचार के दौरान अस्पताल में मौत हो गई। उसने सुसाइड नोट में अपने छह साथियों को मौत का जिम्मेदार बताया है।

टीला शाहबाजपुर गांव में सोनू मावी परिवार के साथ रहता था। उसने छह साथियों के साथ श्रीराम कालोनी में प्रापर्टी डीलर का आफिस खोला हुआ था। उसके भाई मनीष ने बताया कि रुपयों के लेन-देन को लेकर कुछ समय पूर्व साथियों से विवाद हो गया था। पंचायत ने मध्यस्थता कर मामले को शांत करा दिया था। बृहस्पतिवार दोपहर सोनू ने जहर खा लिया। परेशानी होने पर उसने स्वयं स्वजन को जानकारी दी। स्वजन ने उन्हें उपचार के लिए नरेंद्र मोहन अस्पताल में भर्ती कराया। जहां देर रात उपचार के दौरान मौत हो गई। मामले की जानकारी मिलने पर बृहस्पतिवार शाम बार्डर थाना पुलिस ने अस्पताल पहुंचकर सोनू के बयान दर्ज किए थे। पुलिस को उसके कब्जे से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ। जिसमें सोनू ने लिखा था कि उसने अपने साथियों का पूरा हिसाब कर चुका है। इसके बावजूद साथियों ने प्लाट और आफिस पर कब्जा कर लिया है। काम करने पर परिवार को जान से मारने की धमकी दी है। जिनके साथ मैने कारोबार किया वहीं मेरी मौत के जिम्मेदार हैं। सुसाइड नोट पर तीन जनवरी 2022 तारीख लिखी है। जिससे प्रतीत होता है कि मृतक काफी दिनों से परेशान था। सीमा विवाद : मृतक सोनू मावी टीला शहबाजपुर गांव का रहने वाला था। जबकि उसका आफिस टीला मोड थाना क्षेत्र की श्रीराम कालोनी में था। बार्डर थाना पुलिस ने टीला मोड़ थाना क्षेत्र स्थित श्रीराम कालोनी में जहर खाने की बात कही है। वहीं टीला मोड थाना पुलिस ने मामले की जानकारी होने से इंकार किया है। वर्जन : युवक ने जहर खाकर आत्महत्या की है। फिलहाल स्वजन की ओर से तहरीर नहीं दी गई है। तहरीर आने पर मामले की जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी। - रजनीश कुमार उपाध्याय, पुलिस क्षेत्राधिकारी लोनी

Edited By: Jagran