जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : कमला नेहरू नगर स्थित आठवीं बटालियन एनडीआरएफ में लालबहादुर शास्त्री राष्ट्रीय अकादमी, मसूरी में प्रशिक्षण ले रहे 2018 बैच के 183 आईएएस प्रशिक्षु अधिकारियों का दल एक दिवसीय आपदा प्रशिक्षण के लिए आया।

कमांडेंट पीके श्रीवास्तव ने एनडीआरएफ के रोल व कैपेबिलिटी, डिजास्टर मैनेजमेंट सिस्टम व सेट अप एवं इंसिडेंट रिसपांस सिस्टम का मैकेनिज्म और सिविल एथारिटी के साथ समन्वय आदि पर प्रेजेंटेशन दिया। इसके बाद एनडीआरएफ की विशेषज्ञ टीम द्वारा भ्रमण दल को भूकंप आने पर ध्वस्त संरचनाओं, ऊंची इमारतों में फंसे लोगों को बचाने के गुर बताए। सीबीआरएन आपदा, बाढ़ एवं भूकंप के दौरान इस्तेमाल होने वाले अत्याधुनिक उपकरणों की प्रदर्शनी दिखाई गई। डेमोस्ट्रेशन के उपरांत आईएएस प्रशिक्षुओं द्वारा आपदा के दौरान जिलाधिकारी का रोल एवं किस तरह से जल्द से जल्द राहत पहुंचाई जाए आदि विषयों पर सवाल पूछे। पीके श्रीवास्तव ने बताया कि किसी भी आपदा से निपटने की प्राथमिक जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होती है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप