संवाद सहयोगी, मोदीनगर : सिखैड़ा रोड स्थित औद्योगिक क्षेत्र में जमीन की फर्जी नीलामी कराने के मामले में उद्यमी मुकेश गर्ग, मूलचंद गर्ग व बैंक अधिकारियों की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं। मामले में छह खरीदारों ने धोखाधड़ी समेत अन्य गंभीर धाराओं में आरोपितों पर रिपोर्ट दर्ज कराई है। पुलिस ने छह अलग-अलग मुकदमे दर्ज किए हैं। पुलिस का कहना है कि साक्ष्यों के आधार पर जांच कर जल्द ही आरोपितों की गिरफ्तारी कराई जाएगी।

दरअसल, सिखैड़ा रोड पर मोदीनगर पेपर मिल्स की जमीन है, जिसका कुछ हिस्सा तीन साल पहले आनंद पांडेय, रामकुमार, कृष्णपाल, प्रीति वशिष्ठ, सुनीता रानी, मोहित चौधरी को बेचा गया था। बैनामे के आधार पर सभी के नाम पर जमीन भी दर्ज हो गई। अब कुछ दिन पहले खरीदारों को जानकारी हुई कि उनकी जमीन की फर्जी तरीके से नीलामी कर दी गई है, जबकि खरीदारों को इसकी कोई पूर्व सूचना नहीं दी गई। पीड़ित आनंद पांडेय ने बताया कि मोदीनगर पेपर मिल्स के निदेशक ने पर्याप्त दस्तावेजों के आधार पर उनका बैनामा किया था। इसके लिए बैंक द्वारा दिया गया अनापत्ति पत्र भी उन्हें दिखाया गया था। इतना ही नहीं, टीचर्स कालोनी के उद्यमी मुकेश गर्ग व भगवान गंज मंडी के मूलचंद गर्ग ने भी उन्हें अनापत्ति पत्र दिखाया। इन सभी ने बैंक अधिकारियों से मिलकर जमीन की नीलामी करा दी। अपनी हितैषी कंपनी को ही उन्होंने नीलामी में संपत्ति भी दिलाई। निजी स्वार्थ के लिए इन सभी ने यह साजिश रची। गुमराह कर पहले जमीन दिलाई और अब तीन साल बाद उसकी नीलामी करा दी। मामले में स्थानीय स्तर पर सुनवाई नहीं होने पर उन्होंने एसएसपी से गुहार लगाई। उनके आदेश पर शुक्रवार को मुकेश गर्ग, मूलचंद गर्ग, अनुग्रह अग्रवाल, सुनीलदत्त पांडेय, प्रभजोत सिंह, रोहित पांडेय व विकास भारद्वाज के खिलाफ धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है। एसएचओ मुनेंद्र सिंह ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर आरोपितों की भूमिका की जांच शुरू कर दी है, जो भी भूमिका सामने आएगी। उसे गिरफ्तार कर जेल भेज जाएगा।

Edited By: Jagran