जासं, गाजियाबाद: पुराना विजयनगर में अमृत योजना के तहत पेयजल आपूर्ति के लिए जल निगम पाइपलाइन डाल रहा है। इसके लिए सड़कें व पुरानी पाइपलाइन भी तोड़ दी गई। दो साल से लोग परेशान हैं। उनको न तो पेयजल मिल रहा है और न ही आवागमन करने के लिए गड्ढामुक्त सड़क। उधर, जल निगम के अधिकारियों का दावा है कि कार्य 82 फीसद तक पूरा हो गया है। यहां 200 मीटर सेना की भूमि पर पाइपलाइन डालने का कार्य रक्षा मंत्रालय से एनओसी न मिलने के कारण अटका है। उम्मीद है कि जल्द ही एनओसी मिलेगी व दिसंबर 2021 तक कार्य पूरा करा दिया जाएगा। 28 करोड़ रुपये का है प्राजेक्ट: जल निगम के मुख्य अभियंता सर्वेश कुमार ने बताया कि पुराना विजयनगर में पेयजल आपूर्ति के लिए 28.05 करोड़ रुपये से अमृत योजना के तहत कार्य करवाया जा रहा है। इस धनराशि से 12 नलकूप, दो ओवरहेड टैंक, पांच सीडब्ल्यूआर और 40 किलोमीटर तक पाइपलाइन बिछाने का कार्य होना प्रस्तावित है। यह कार्य 82 फीसद पूरा हो गया है। 17 किलोमीटर तक पाइपलाइन बिछा दी गई है। नौ नलकूप में बिजली कनेक्शन भी हो चुके हैं। 17 हजार आबादी झेल रही परेशानी: स्थानीय पार्षद सुरभि ने बताया कि अमृत योजना के तहत पुराना विजयनगर, एच ब्लाक, जी ब्लाक, के ब्लाक, मवई रोड में पेयजल पाइपलाइन डालने का कार्य हो रहा है। इससे 17 हजार की आबादी को राहत मिलनी है। कार्य में देरी से लोग परेशानी झेल रहे हैं। जल निगम ने अभी लोगों के घरों में पेयजल कनेक्शन देने का कार्य भी पूरा नहीं किया है। दूसरी तरफ नगर निगम सड़कें बनाने के लिए तैयारी कर चुका है। अगर सड़क बन गई और कनेक्शन नहीं हुआ तो दोबारा सड़क तोड़नी पड़ेगी। इससे सरकारी धन का नुकसान होगा। इस संबंध में जल निगम और नगर निगम के अधिकारियों को पत्र लिखकर अवगत कराया गया है।

Edited By: Jagran