जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : विजयनगर पुलिस ने सिद्धार्थ विहार से लापता हुई विवाहिता का शव बुधवार को मुरादनगर से बरामद करने के बाद मामले का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने हत्या के आरोपित सास-ससुर व पति को गिरफ्तार कर उनके पास से हत्या में प्रयुक्त बलकटी व स्कूटी बरामद की है। रिया की हत्या सास-ससुर ने थप्पड़ मारने के विरोध में कर दी थी।

रिया की हत्या सोमवार को मुरादनगर में बलकटी से गला काटकर की गई थी। शव की पहचान छिपाने के लिए आरोपितों ने सिर को धड़ से अलग कर गंगनहर में डाल दिया था। अब पुलिस गोताखोरों की मदद से सिर की तलाश करेगी। हत्या के बाद आरोपित पति ने रिया के अपहरण की सूचना पुलिस को दी थी।

सीओ सिटी प्रथम स्वतंत्र कुमार ¨सह ने प्रेसवार्ता में बताया कि पुलिस ने रिया के पति आकाश त्यागी, सास ऊषा त्यागी और ससुर सुरेश त्यागी को गिरफ्तार किया है। आरोपित मूलरूप से सिहानी रोड स्थित विद्या विहार के रहने वाले हैं और वर्तमान में सिद्धार्थ विहार की प्रतीक ग्रांड सोसाइटी में रह रहे हैं। उन्होंने बताया कि आकाश त्यागी का मध्य प्रदेश के इंदौर की 78 योजना विजय नगर कालोनी निवासी वाली रिया जैन से वर्ष 2015 से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों ने परिवार की मर्जी से पिछले वर्ष मार्च में शादी की थी। इस शादी से आकाश के स्वजन खुश नहीं थे। वह दहेज के लिए रिया का उत्पीड़न करते थे। जिसको लेकर उनका रिया से आए दिन झगड़ा रहता था।

हत्यारोपित सुरेश ने पुलिस को बताया कि एक दिन झगड़े के दौरान रिया ने उन्हें थप्पड़ मारा तो उसी दिन उन्होंने पत्नी ऊषा के साथ मिलकर रिया की हत्या की साजिश रची। अल्ट्रासाउंड के बहाने सास रिया को ले गई थी घर से बाहर विजयनगर थाना प्रभारी योगेंद्र मलिक ने बताया कि रिया को पेट दर्द की शिकायत रहती थी। इसी बात का फायदा उठाकर सुरेश ने उसका अल्ट्रासाउंड कराने की बात कही।

साजिश के मुताबिक ऊषा अपनी पुत्रवधु रिया को घर से आटो में लेकर संजयनगर स्थित एक अल्ट्रासाउंड सेंटर पहुंची। यहां ससुर सुरेश पहले से मौजूद था। साजिश के चलते वह सेंटर पर तब पहुंचे जब वह बंद हो चुका था। इसके बाद सास-ससुर ने रिया को घुमाने की बात कही और उसे स्कूटी पर बैठाकर संजयनगर से मुरादनगर ले गए। रास्ते में सास-ससुर ने रिया को खाने के साथ कोल्डड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर पिला दिया और जब बेहोश हो गई तो शहजादपुर गांव में ले जाकर बलकटी से उनका सिर काटकर धड़ से अलग कर दिया।

आरोपितों ने रिया के धड़ को ईंख के खेत में और कटे हुए सिर को गंगनहर में फेंक दिया।

रिया के अपहरण होने की सूचना देने पर खुला राज

ऊषा और रिया को संजयनगर भेजने के लिए आकाश ने ही आटो बुक किया था। रिया की हत्या के बाद जब सुरेश और ऊषा घर लौट आए तो आकाश ने यूपी-112 पर काल कर अपनी पत्नी रिया के अपहरण की सूचना पुलिस को दी।

आकाश ने पुलिस को बताया कि रिया उसकी मां ऊषा के साथ बाजार जा रही थी, इसी दौरान कार सवार बदमाश उसका अपहरण कर ले गए। साथ ही आकाश और हत्यारोपी सुरेश ने पुलिस को बताया कि रिया का भाई राहुल यहां से कुछ लोगों से पैसे उधार लेकर मध्य प्रदेश भाग गया है। राहुल पर पैसा लौटाने का दबाव बनाने के लिए सूदखोरों ने उसकी बहन को अगवा कर लिया। यह कहानी पुलिस के गले नहीं उतरी और शुरुआती शक गहराने पर पुलिस ने तीनों को थाने बुलाकर सख्ती से पूछताछ की। इसपर आरोपित टूट गए और उन्होंने पुलिस के आगे सच्चाई उगल दी।

Edited By: Ashutosh Gupta