Move to Jagran APP

Ghaziabad News: बिजली विभाग के खिलाफ किसानों का अनिश्चितकालीन धरना शुरू, ये हैं छह बड़ी मांगें

Ghaziabad News उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में किसानों का बिजली विभाग के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना शुरू हो गया है। किसानों ने अपनी छह मांगों को लेकर धरना शुरू किया है। किसानों का कहना है कि बिजली विभाग के अधिकारी और कर्मचारी गांवों में किसानों से खुलेआम लूट कर रहे हैं। जानिए आखिर गाजियाबाद के किसानों की क्या-क्या बड़ी मांगें हैं?

By Jagran News Edited By: Kapil Kumar Thu, 11 Jul 2024 01:35 PM (IST)
किसानों ने बिजली विभाग के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया। (जागरण फोटो)

जागरण संवाददाता, गाजियाबाद। भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) ने जनपद के किसानों की बिजली विभाग की समस्याओं को लेकर गुरुवार को राजनगर स्थित मुख्य अभियंता कार्यालय पर अनिश्चित कालीन धरना शुरू कर दिया है।

भाकियू के प्रदेश अध्यक्ष रामकुमार चौधरी, जिला अध्यक्ष बिजेंद्र सिंह, युवा जिला अध्यक्ष छोटे चौधरी के नेतृत्व में यह धरना शुरू किया गया है।

बिजली विभाग खुलेआम लूट करने का कर रहा काम

जिला अध्यक्ष बिजेंद्र सिंह ने बताया कि जनपद के किसानों के साथ बिजली विभाग खुलेआम लूट करने का काम कर रहा है। देर रात में किसानों, मजदूरों के घरों में बिजली विभाग छापामारी कर रहा है जो गलत है और उसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि बिना प्रधान की अनुमति के कोई बिजली विभाग का अधिकारी, कर्मचारी किसी भी गांव में किसी के घर में नहीं जाना चाहिए।

ये हैं किसानों की मुख्य मांगें

किसानों की मुख्य छह मांगें हैं, जिनमें मुख्य रूप से किसानों के नलकूपों (ट्यूबवेलों) पर मीटर नहीं लगने दिए जाएंगे। किसानों के नलकूपों, घरों के कनेक्शनों को तत्काल जोड़ा जाए। सरकार के जरिए बिजली माफी योजना को तत्काल लागू करते हुए किसानों को फ्री बिजली उपलब्ध कराई जाए।

जनपद के प्रत्येक गांव में बिजली विभाग कैंप लगाकर किसानों की समस्याओं का तत्काल निस्तारण कराए। जिले में किसानों के नलकूपों को रोस्टर सही करके निर्बाध बिजली आपूर्ति कराने का काम करें। किसानों के खेतों से गुजर रही बिजली की क्षतिग्रस्त लाइनों को तत्काल बदला जाए। क्षेत्र में जो भी खराब ट्रांसफॉर्मर हैं, उन्हें बदला जाए।

बताया गया कि अभी धरना जारी है। मौके पर बिजली विभाग के अधिकारी और पुलिस पहुंच गई है।