गाजियाबाद [मदन पांचाल]। कोरोना मरीजों को अब दिन में तीन बार गरम पानी से गरारे करने होंगे। कोरोना से जंग लड़ने के क्रम में डॉक्टरों ने गरम पानी में नमक डालकर गरारे करने को अनिवार्य कर दिया गया है। इसके लिए प्रत्येक मरीज को एक-एक केतली उपलब्ध करा दी गई है। किसी रूम में पांच तो किसी में तीन केतली दी गई हैं। मरीजों की देखभाल करने वाले डॉक्टरों का मानना है कि गरम पानी पीने और इससे गरारे करने से वायरस गले में ही मर सकता है।

पौष्टिक खाना खाने और योगा करने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है इसके लिए सुबह को मौसमी का सेवन और एक गिलास दूध पीना भी अनिवार्य कर दिया गया है। अंडे भी नियमित खाने की सलाह मरीजों को दी गई है। 16 अप्रैल को शुरू हुए अस्पताल में आए करीब डेढ़ सौ मरीजों में से 121 स्वस्थ्य होकर घर चले गए है। वर्तमान में 28 मरीजों का उपचार चल रहा है। इनमें तीन बच्चे भी शामिल है। खास बात यह है कि ब्लड प्रेशर के 22 और शुगर के 31 मरीज भी स्वस्थ होकर घर जा चुके है।

कोरोना पॉजिटिव मरीजों को जल्द स्वस्थ्य किए जाने के क्रम में अधिक से अधिक गरम पानी के सेवन की सलाह दी गई है। सुबह, दोपहर और शाम को गरम पानी में नमक डालकर गरारे करने को अनिवार्य कर दिया गया है। इसके लिए प्रत्येक मरीज को एक-एक केतली उपलब्ध कराई गई है। गरारे करने से गले की खराश, खांसी और जुकाम की परेशानी न के बराबर रह जाती है। कोरोना वायरस भी सबसे पहले गले में ही पहुंचता है। लगातार गरम पानी गले में पहुंचेगा तो वायरस के आगे पहुंचने की संभावना कम हो जाती है।

मौसमी का सेवन करने की भी सलाह दी जा रही है। भरपेट खाना एवं दवाइयां समय पर लेने की सलाह के साथ ही दौरा करने पर इस संबंध में जायजा लिया जा रहा है।

- डॉ. रचना यूएम, ईएसआइ कोविड अस्पताल राजेंद्र नगर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस