Move to Jagran APP

बुझ गया घर का चिराग: कार की तेज रफ्तार ने छीन ली युवक की जिंदगी, परिवार पर टूटा गमों का पहाड़; सदमे में मां

गाजियाबाद के लोनी में एक परिवार पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा है। सड़के हादसे में युवक की मौत से परिजनों में कोहराम मचा है। जहां बेटे की मौत से माता और पिता सदमे में हैं तो वहीं इलाके में मातम पसर गया है। बताया गया कि युवक की मौत से परिवार पर बड़ा संकट आ गया है। मृतक युवक की कमाई से ही घर का खर्चा चलता था।

By Jagran News Edited By: Kapil Kumar Thu, 11 Jul 2024 11:20 AM (IST)
लोनी में सड़क हादसे में युवक की मौत। (जागरण फोटो)

जागरण संवाददाता, लोनी (गाजियाबाद)। ट्रानिका सिटी थाना थाना क्षेत्र मंडोला गांव के निकट दिल्ली सहारनपुर मार्ग पर बुधवार रात बागपत से लोनी जा रहे हैं। स्कूटी सवार युवक को तेज रफ्तार कार ने टक्कर मार दी। जिससे वह गिरकर गंभीर रूप से घायल हो गया।

डॉक्टरों ने सागर को किया मृत घोषित

वहीं, घटना देख एकत्रित हुए आसपास के लोगों ने पुलिस और घायल के स्वजन को सूचना दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल को निकट अस्पताल में भर्ती कराया जहां, डॉक्टरों ने उसे उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस कार चालक को हिरासत में लेकर अग्रिम कार्रवाई में जुटी है।

सैलून का काम करता था मृतक युवक

नोएडा में सैलून का काम करने वाले जिला बागपत बिजरौल गांव निवासी सागर (20 वर्ष) बुधवार रात स्कूटी से लोनी जा रहे थे। मंडोला गांव के निकट पहुंचते ही सामने से आ रही तेज रफ्तार कार ने टक्कर मार दी। जिससे वह गिरकर गंभीर रूप से घायल हो गए।

राहगीरों ने पुलिस को दी थी सूचना

उधर, घटना देख एकत्रित हुए ग्रामीण व राहगीरों ने पुलिस व घायल के स्वजन को सूचना दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल को निकट अस्पताल में भर्ती कराया जहां, डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पाकर पहुंचे मृतक के स्वजन का रो-रो कर बुरा हाल है।

यह भी पढ़ें- Hathras Accident: हाथरस में कंटेनर से टकराई बस, दो लोगों की दर्दनाक मौत; 16 घायल

सहायक पुलिस आयुक्त लोनी सूर्यबली मौर्य ने बताया कि चालक को हिरासत में ले लिया गया है। शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।

स्वजन को चिंता कैसे चलेगा परिवार, कैसे होगी पढ़ाई

जिला बागपत बिजरोल गांव निवासी मृतक सागर के परिवार में बुजुर्ग बीमार पिता सतेंद्र, मां लक्ष्मी देवी दो बड़े भाई सौरभ और गौरव है। सागर छोटा होने के बावजूद भी सैलून पर काम कर परिवार का भरण पोषण व बड़े भाइयों को पढ़ा रहा था। दोनों बड़े भाई कंपटीशन की तैयारी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- Unnao Accident: अवैध ढंग से हुआ बस का पंजीकरण, फिटनेस-बीमा भी नहीं; चार वर्ष से नोटिस-नोटिस खेल रहे थे अफसर

उधर, सागर की मौत की खबर सुन परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है। जहां मां और पिता को घर कैसे चलेगा, इसकी चिंता है। वही भाइयों को भी चिंता हो रही है कि अब उनकी पढ़ाई कैसे होगी।