Move to Jagran APP

घुड़चढ़ी के दौरान अचानक हुआ दर्दनाक हादसा, चंद मिनटों में थम गईं मासूम की सांसें; मौत से छाया मातम

गाजियाबाद में एक दर्दनाक हादसा हुआ है। घुड़चढ़ी के दौरान एक मासूम बच्ची नाचते-नाचते नाले में गिर गई। इस दौरान बरातियों की बच्ची पर नजर नहीं पड़ी। लेकिन जब तक उसे नाले से निकाला गया तब तक उसकी सांस थम चुकी थी। बच्ची की मौत से परिवार में कोहराम मचा है और परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। आगे इस दर्दनाक घटना के बारे में विस्तार से पढ़िए।

By Jagran News Edited By: Kapil Kumar Thu, 11 Jul 2024 03:31 PM (IST)
इसी नाले में गिरकर हुई बच्ची की मौत। (जागरण फोटो)

जागरण संवाददाता, गाजियाबाद। अवंतिका कॉलोनी में नाले में डूबने से आठ साल की बच्ची की मौत हो गई। हादसा उस वक्त हुआ जब बच्ची घर के पास घुड़चढ़ी के दौरान ढोल बजने की आवाज सुनकर वहां पर पहुंची और नाचते वक्त पांच फीट गहरे नाले में जा गिरी, जब तक उसको नाले से बाहर निकाला गया, तब तक उसकी सांस थम चुकी थी।

नाले की ठीक से नहीं होती सफाई

आरोप है कि जिस नाले में बच्ची डूबी है, उसकी हाल ही में सफाई भी कराई गई है। लेकिन नाले की सफाई में लापरवाही की गई, जिस कारण हादसे के वक्त नाला लबालब भरा हुआ था। यदि ठीक से नाले की सफाई होती तो उसमें पानी कम रहता और बच्ची की जान बच सकती थी।

बिहार के मुंगेर जिले में रहने वाले राजेश पासवान परिवार के साथ प्रताप नगर में किराए पर रहते हैं। राजेश और उनकी पत्नी सुनीता पेशे से बेलदार हैं। मंगलवार को राजेश मिशलगढ़ी में एक निर्माणाधीन मकान पर लेंटर डालने गए थे, घर पर पत्नी और चार बच्चे थे।

घुड़चढ़ी के दौरान हुआ हादसा

बताया गया कि दोपहर लगभग साढ़े तीन बजे घर के पास ही अवंतिका कॉलोनी के मेन रोड पर घुड़चढ़ी हो रही थी। ढोल की आवाज सुनकर राजेश की आठ वर्षीय बेटी कंचन घुड़चढ़ी देखने के लिए घर से निकली थी। इस दौरान वह भी नाचने लगी और नाचते-नाचते सड़क के बगल से गुजर रहे नाले में जा गिरी, उस पर घुड़चढ़ी के वक्त मौजूद लोगों की नजर नहीं पड़ी।

एक महिला की पड़ी थी बच्ची पर नजर

वहीं, सड़क के दूसरी ओर एक मकान की तीसरी मंजिल पर बालकनी में खड़े होकर एक महिला भी घुड़चढ़ी देख रही थी, महिला की नजर नाले में गिरते हुए बच्ची पर पड़ गई। उन्होंने शोर मचाया लेकिन, ढोल की आवाज के बीच उनकी आवाज दब गई। तब उन्होंने पड़ोसियों को मामले की जानकारी दी, तब तक घुड़चढ़ी के वक्त मौजूद लोग मंदिर पहुंच गए थे।

यह भी पढ़ें- यूपी के इन जिलों पर फिर बरपा कुदरत का कहर: आकाशीय बिजली से कुल 14 लोगों की मौत, मंगलवार को 10 लोगों ने गवाई थी जान

घंटों की मशक्कत के बाद बच्ची को नाले से निकाला

जानकारी के अनुसार, राहगीरों और आसपास के लोगों ने पास ही वेल्डिंग की दुकान करने वाले दुकानदार की मदद से बच्ची को नाले से बाहर निकालने का प्रयास किया। पुलिस को भी हादसे की सूचना दी। इस दौरान बच्ची की मां भी वहां पर पहुंच गई। लगभग आधे घंटे की मशक्कत के बाद बच्ची को नाले से बाहर निकाला गया और उपचार के लिए सर्वोदय अस्पताल लेकर गए। जहां चिकित्सकों ने बच्ची की मृत घोषित कर दिया।

बुधवार को बच्ची के शव का पोस्टमार्टम कराया गया, इसके बाद उसका अंतिम संस्कार किया गया। अपर नगर आयुक्त अवनेंद्र कुमार का कहना है कि मामले की जानकारी नहीं है, जानकारी कर इस मामले में अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें- UP News: सुलतानपुर में बिजली गिरने से तीन बच्चों समेत छह की मौत, SDM ने कहा- पीड़ित परिवारों को द‍िलाई जाएगी मदद