जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : भाई की इस्पात फर्म के भूखंडों को फर्जी दस्तावेज बना अपने व परिवार के नाम कराने और बेच देने के आरोप में विजयनगर पुलिस ने शनिवार को मुख्य आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।

कोलकाता निवासी पवन पहाड़िया ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि वह गाजियाबाद के सुशील नवेटिया के साथ एक फर्म में 1985 से साझेदार थे। कोलकाता में व्यापार बढ़ाने के लिए सुशील के भाई अनिल नवेटिया को फर्म का मैनेजर बना दिया गया। साल 2000 में यूपीएसआइडीसी से उनकी फर्म को पांच भूखंड आवंटित हुए थे। बीते साल पवन और सुशील यहां आए तो पता चला कि अनिल ने धोखाधड़ी कर सारे भूखंड हड़प लिए। पुलिस से कार्रवाई न होने पर उन्होंने कोर्ट की शरण ली, जिसके आदेश पर दिसंबर-2108 में आरोपित अनिल के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। एसएचओ विजयनगर श्यामवीर सिंह ने बताया कि शास्त्रीनगर के डी ब्लॉक निवासी अनिल नवेटिया को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। मामले में जांच के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। उधर, आरोपित के अधिवक्ता डीके शर्मा ने बताया कि पुलिस ने हाईकोर्ट से मिले स्टे को दरकिनार करते हुए मंदिर जाते वक्त अनिल को गिरफ्तार किया है। वह बीमार हैं। न्यायालय में इसके सारे सबूत पेश किए जाएंगे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस