प्रद्युम्न कौशिक, मुरादनगर

समाज में बढ़ रहे सांप्रदायिक जहर पर जैन मुनि ने ¨चता जताते हुए कहा कि अच्छे और सच्चे लोगों के चुप रहने से ऐसी स्थिति है। जैन मुनि श्री नमोस्तु सागर जी महाराज ने कहा कि अच्छे और सच्चे लोग सही समय पर चुप्पी साध जाते हैं, जिसके कारण सांप्रदायिक ताकतें हावी होती हैं।

बृहस्पतिवार को नमोस्तु सागर जी महाराज ने पत्रकार वार्ता में कहा कि वर्तमान में कलयुग चल रहा है और आने वाला समय और भी अधिक भयावह है। देश में सांप्रदायिक ताकतें इस लिए पनप जाती हैं कि सही लोग सही समय पर कुछ बोलते नहीं हैं। इसका फायदा सांप्रदायिक ताकतों को मिलता है। उन्होंने कहा कि देश में शांति और भाइचारे के लिए ही पंचकल्याणक महोत्सव का आयोजन किया जाता है। किसी भी जीव को तभी शांति मिल सकती है, जब वह अहिंसा के मार्ग पर चलेगा। उन्होंने कहा कि भगवान महावीर और महात्मा गांधी अहिंसा के पुजारी थे। यदि देश उनके बताए मार्ग पर चले तो हर तरफ शांति का माहौल होगा। किसी भी व्यक्ति को सिर्फ स्वयं को सुधारना होगा, दूसरों को नहीं। आज के दौर में व्यक्ति खुद नहीं सुधरता, लेकिन दूसरे को सुधार की सीख जरूर देता है। यदि व्यक्ति खुद सुधर जाए तो देश फिर से सोने की चिड़िया बन सकता है।

By Jagran