जागरण संवाददाता, मोदीनगर (गाजियाबाद): अवैध असलहे रखने के मामले में मोदीनगर पुलिस के हत्थे चढे हिस्ट्रीशीटर अमित त्यागी का नया कारनामा सामने आया है। नामी हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी ने अमित त्यागी पर अस्पतालों के फर्जी बिल लगाकर कंपनी को करोड़ों रुपये की चपत लगाने का आरोप लगाकर दिल्ली के करोल बाग थाने में शिकायत दी है। दिल्ली पुलिस प्रकरण की जांच में जुटी है। कंपनी के अधिकारियों ने अवैध असलहे का प्रकरण सामने आने के बाद मोदीनगर पुलिस से भी संपर्क साधा है।

एमडी इंडिया हेल्थ इंश्योरेंस टीपीए प्राइवेट लिमिटेड के महाप्रबंधक समीर भोंसले ने बताया कि पिछले दिनों कंपनी के ऑडिट में सामने आया कि कई मरीजों के नाम से कंपनी में लाखों रुपया फर्जी बिल लगाकर निकाला जा चुका है। अस्पतालों में इसकी जांच की गई तो वहां किसी भी मरीज का कोई रिकार्ड नहीं मिला। मरीजों से पूछताछ करने पर पता चला कि मुरादनगर के ब्रहमनान मोहल्ला निवासी अमित त्यागी ग्राहकों को लालच देता था कि वह उन्हें इंश्योरेंस कंपनी से अस्पताल में बिना भर्ती हुए क्लेम दिलवा देगा। इस लालच में आकर बीमा धारक उसके कहने पर दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कर देते थे।

आरोप है कि अमित त्यागी बीमाधारकों के बड़े अस्पतालों में भर्ती होने के तमाम दस्तावेज फर्जी तरीके से तैयार करता था और उन्हें कंपनी में लगाकर क्लेम पास करा लेता था। कई मरीजों के रीढ़ की हड्डी के ऑपरेशन, सर्जरी, घुटना प्रत्यारोपण आदि के लाखों के बिल भी उसने पास करा लिए थे। मामला पकड़ में आने पर जब बीमाधारकों की जांच कराई गई तो वे न तो कहीं अस्पताल में भर्ती हुए और न ही वे कभी बीमार हुए थे। जिन अस्पतालों के बिल और तमाम दस्तावेज तैयार करके कंपनी में लगाए गए, उनसे भी कंपनी ने लिखित में ले लिया है। अस्पतालों ने भी यह बात स्वीकार की कि कंपनी में लगाए गए बिल उनके यहां से जारी नहीं हुए हैं और उनके यहां दर्शाए गए मरीजों का कोई रिकार्ड भी नहीं है। आरोप है कि तय सौदे के अनुसार अमित बीमाधारक को उसके हिस्से की रकम देकर अधिकांश रकम अपने पास रख लेता था। ऐसा करके वह कंपनी को सवा करोड़ से अधिक की चपत लगा चुका है।

कंपनी के विजिलेंस ऑफिसर भोजराज ¨सह पुंडीर ने बताया कि जब इस बारे में अमित त्यागी से मिलकर ऐसा करने का कारण पूछा गया तो उसने कंपनी के अधिकारियों को भी भुगत लेने की धमकी दी थी। इसी के चलते कंपनी ने दिल्ली के करोल बाग थाने में शिकायत देकर कार्रवाई की मांग की है। करोल बाग पुलिस इसकी जांच कर रही है। सीओ मोदीनगर धर्मेंद्र चौहान का कहना है कि मीडिया में खबरें आने के बाद हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी के अधिकारियों ने मोदीनगर पुलिस से संपर्क साधा है। उन्हें प्रकरण की जानकारी दी गई है। ध्यान रहे कि मोदीनगर पुलिस ने अमित त्यागी व उसके भाई जितेंद्र समेत तीन को अवैध असलहे रखने के आरोप में सोमवार को गिरफ्तार किया था। तीनों लोग दयावती मोदी पब्लिक स्कूल में बच्चों के विवाद में पुलिस के पास सिफारिश में आए थे।

Posted By: Jagran