संवाद सहयोगी, लोनी : गाजियाबाद रोड पर अतिक्रमण के खिलाफ अभियान के दौरान बुधवार दोपहर प्रशासन और नगरपालिका अधिकारियों को व्यापारियों के विरोध का सामना करना पड़ा। व्यापारियों की अधिकारियों और पुलिस ने नोकझोंक हो गई। इस दौरान जमकर धक्का-मुक्की हुई और पुलिस ने विरोध कर रहे दो व्यापारियों को हिरासत में ले लिया। करीब दो घंटे चली कार्रवाई के दौरान दो दर्जन अवैध खोखे और नाले पर हुए अतिक्रमण को ध्वस्त किया गया।

दोपहर करीब बारह बजे उपजिलाधिकारी सतेंद्र कुमार ¨सह, नगर पालिका अधिशासी अधिकारी शालिनी गुप्ता, क्षेत्राधिकारी दुर्गेश कुमार ¨सह, लोनी कोतवाली प्रभारी उमेश कुमार पांडेय नपा कर्मचारियों और पुलिस की टीम के साथ लोनी तिराहे पर पहुंचे। जहां टीम ने अतिक्रमण हटाना शुरू किया। करीब एक घंटे में टीम अतिक्रमण हटाती हुई गाजियाबाद रोड स्थित सिनेमा हाल के पास पहुंची। जहां ¨टबर दुकान संचालक ने कार्रवाई का विरोध किया। प्रशासनिक और पुलिस के अधिकारियों ने उसे समझाकर शांत कर दिया। अधिकारी जैसे ही आगे बढे़। व्यापारियों ने अभियान के खिलाफ बृहस्पतिवार को बाजार बंद करने की चेतावनी दी। उनका कहना है कि अधिकारियों द्वारा कोई नोटिस नहीं दिया जाता। टीम आते ही व्यापारियों के सामान को तोड़ना शुरू कर देती है। देश के प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से शिकायत की जाएगी। अधिकारियों ने उसे शांत करने का प्रयास किया तो वह अधिकारियों से झगडे़ को उतारू हो गए। इस दौरान पुलिस और व्यापारियों के बीच धक्का मुक्की हो गई। पुलिस ने लाठियां फटकारते हुए व्यापारियों को हटाया और दो व्यापारियों को हिरासत में ले लिया। इसके बाद कार्रवाई को पूरा किया गया। नगर पालिका अधिशासी अधिकारी ने बताया कि अतिक्रमण करने वालों से नौ हजार रुपये का जुर्माना वसूला गया है। उपजिलाधिकारी का कहना है कि जिस रोड से अतिक्रमण हटवा दिया गया है। यदि दोबारा अतिक्रमण पाया गया तो दुकान संचालकों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। क्षेत्राधिकारी ने बताया कि हिरासत में लिए गए दोनों व्यापारियों के खिलाफ शांति भंग की कार्रवाई की गई है।

Posted By: Jagran