जागरण संवाददाता, वैशाली (गाजियाबाद): क्लाउड-9, वैशाली सेक्टर-एक में शनिवार शाम अचानक लिफ्ट में खराबी आ गई। उसमें सवार बीटेक का छात्र पालतू कुत्ते के साथ करीब डेढ़ घंटे तक फंसा रहा। सुरक्षा कर्मियों व अन्य लोगों ने चीख पुकार सुनकर कड़ी मशक्कत के बाद लिफ्ट का दरवाजा खोलकर उन्हें बाहर निकाला। घटना के बाद से छात्र काफी सहमा है।

क्लाउड-9 के टावर एस-1 के फ्लैट संख्या-1801 में करीब माह भर से राजीव शर्मा का परिवार रहता है। उनका बेटा अक्षत शर्मा बीटेक अंतिम वर्ष का छात्र है। राजीव शर्मा ने बताया कि शनिवार शाम करीब छह बजकर पांच मिनट पर उनका बेटा अक्षत शर्मा पालतू कुत्ते को घुमाने नीचे जाने के लिए लिफ्ट में सवार हुआ। भूतल पर पहुंचते ही लिफ्ट झटका लेकर बंद हो गई। लिफ्ट में अंधेरा छा गया। काफी प्रयास के बाद भी बेटे से लिफ्ट का दरवाजा नहीं खुला। बेटे के पास मोबाइल नहीं था। उसने लिफ्ट में लगे अलार्म व टेलीफोन का प्रयोग करना चाहा लेकिन वह नहीं चले। बेटा काफी डर गया और चीखे - चिल्लाने लगा। पालतू कुत्ता भी चिल्लाने लगा। बेटे ने लिफ्ट के दरवाजे पर हाथ पटकना शुरू कर दिया। उसकी चीख - पुकार सुनकर सुरक्षा कर्मी व अन्य लोग वहां पहुंचे। लोगों ने किसी तरह से शाम करीब साढ़े सात बजे लिफ्ट का दरवाजा खोला। तब जाकर बेटा व पालतू कुत्ता बाहर निकला। दोनों काफी डरे हैं। वहीं, ऋषभ बिल्डर के डॉयरेक्टर संजीव जैन का कहना है कि कंपनी की ओर से किसी को फ्लैट का कब्जा नहीं दिया गया है। कुछ लोग इंटीरियर का काम कराने के लिए आते हैं। अभी लिफ्ट का काम जारी है, इसलिए वह अटक जाती है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप