जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : लॉकडाउन के दौरान सोमवार को बैंक खुले रहे। लेकिन उनमें लेन-देन के लिए कम खाताधारक आए। ज्यादातर बैंकों ने बाहर सुरक्षा गार्ड के पास सैनिटाइजर से हाथ सैनिटाइज कराने के बाद ही खाताधारकों को प्रवेश दिया। कुछ बैंकों ने बाहर ही लेन-देन संबंधी फॉर्म भरवाया, उसके बाद अंदर प्रवेश दिया। बैंक प्रबंधकों ने बताया कि बंद जगह पर ज्यादा देर किसी के ठहरने से कोरोना फैलने का खतरा ज्यादा हो सकता है। इस कारण बाहर फॉर्म भरवा कर प्रवेश दिया गया।

जिले में 41 बैंक की 465 शाखाएं। सभी बैंकों की शाखाएं पूरे समय तो खुली रहीं। बैंकों में पहुंचे खाताधारकों से बात की गई तो मालूम हुआ ज्यादातर ऑनलाइन बैंकिग में करना नहीं जानते थे या फिर फ्रॉड के खतरे की वजह से उसमें विश्वास नहीं रखते। यही वजह रही कि बैंकों में बहुत कम लोग लेन-देन के लिए जाते हुए नजर आए। कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए बैंकों में पूरी सावधानी बरती गई। बैंक के गेट पर ही सैनिटाइजर रखे गए हैं, जिनसे हाथ सैनिटाइज कराने के बाद ही खाताधारकों को अंदर भेजा गया। आरडीसी में एक बैंक ने सावधानी बरतते हुए धनराशि जमा करने और निकासी के फार्म बाहर सुरक्षा गार्ड के पास रखवा दिए। गार्ड ने पहले खाताधारकों के हाथ सैनिटाइज कराए और बाहर की फार्म जमा करके अंदर देकर आए। फिर धनराशि लेने और जमा करने की खाताधारक को अंदर भेजा गया। जिससे वह कम देर बैंक के अंदर रहे।

एटीएम खुले, भरा कैश

सभी बैंकों के 1100 एटीएम काम कर रहे हैं। बैंक के स्टाफ और सुरक्षा गार्डों ने पैसा निकालने आए लोगों को प्रेरित किया कि वह एटीएम से ही पैसा निकालें। बैंक अधिकारियों ने बताया कि विशेष निर्देश देकर सभी एटीएम में कैश भर दिया गया है। जिससे लोगों को परेशानी न हो।

लोगों से अनुरोध है कि आनलाइन लेनदेन करें। बैंक आने से बचे। बैंकों का काम सामान्य रूप से चल रहा है।

- एसपी यादव, एलडीएम

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस