जासंकें, गाजियाबाद : लोकसभा में भूमि अधिग्रहण बिल पारित होने से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों ने चैन की सांस ली है। नया भूमि अधिग्रहण बिल विधेयक आने के बाद देशभर के किसानों को अपनी जमीन कौडि़यों के दाम लुटाने का भय खत्म हो चुका है। इसके लिए किसान दशकों से प्रशासन से लंबा संघर्ष करते आ रहे हैं।

पश्चिम प्रदेश निर्माण मोर्चा के केंद्रीय संयोजक सत्यपाल चौधरी ने कहा कि नया विधेयक लाना सरकार की मजबूरी थी। यह विधेयक लाने के लिए हमारे अनेक साथियों ने काफी संघर्ष किया जिसके लिए उनको कई तरह की यातनाएं, फर्जी मुकदमे सहित जेल तक भी जाना पड़ा। उन्होंने कहा कि अब भी निजी बिल्डर किसानों से सीधी खरीद-फरोख्त कर सकते हैं और बिल का प्रायोजन स्पष्ट नहीं होने के कारण अधिकारी चालबाजी कर सकते हैं। लेकिन बिल के पास होने के बाद किसानों को उम्मदें जागी हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर