फीरोजाबाद, जागरण संवाददाता। गेहूं की सरकारी खरीद शुरू हुए 15 दिन बीत गए हैं, लेकिन कई क्रय एजेंसियों ने अब तक एक कुंतल गेहूं भी नहीं खरीदा है। इसको लेकर एडीएम ने पीसीएफ, कर्मचारी कल्याण निगम, यूपी स्टेट एग्रो के जिला प्रबंधकों एवं खाद्य विभाग के चार केंद्र प्रभारियों को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। जिले में अब तक मात्र 59 किसानों ने ही गेहूं बेचा है।

किसानों से 1840 रुपये के समर्थन मूल्य से गेहूं खरीदने के लिए 66 क्रय केंद्र खोले गए हैं। जो एक अप्रैल से संचालित हैं, लेकिन खरीद का काम धीमी गति से चल रहा है। 12 अप्रैल तक किसी भी केंद्र पर गेहूं नहीं आया था। इसके बाद खरीद शुरू हुई, लेकिन 15 अप्रैल तक सिर्फ 32 केंद्रों पर ही गेहूं खरीदा जा सका है। बाकी 34 केंद्र अब भी सूने हैं। इसके लिए क्रय एजेंसी और केंद्र प्रभारी दोनों को जिम्मेदार माना जा रहा है। इनके द्वारा गेहूं खरीद के लिए अपने स्तर से प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। मंगलवार को समीक्षा के दौरान इस स्थिति की जानकारी होने पर एडीएम छोटे लाल मिश्रा ने नाराजगी जताते हुए कार्रवाई की।

जिला खाद्य विपणन अधिकारी गोरखनाथ के अनुसार एडीएम ने कर्मचारी कल्याण निगम, पीसीएफ, यूपी एग्रो के जिला प्रबंधकों के साथ ही खाद्य विभाग के सिरसागंज, फरिहा, टूंडला और शिकोहाबाद केंद्र प्रभारी को नोटिस दिया है। खरीद बढ़ाने के लिए क्रय केंद्रों का लगातार निरीक्षण कर केंद्र प्रभारियों को क्षेत्रीय किसानों से संपर्क करने को कहा जा रहा है ।

173 एमटी की हुई खरीद:

शासन ने जिले को 54 हजार मीट्रिक टन गेहूं की खरीद का लक्ष्य दिया है, लेकिन 15 अप्रैल तक मात्र 173 एमटी की खरीद हुई है। यूपी एग्रो के 10 क्रय केंद्र हैं, लेकिन किसी भी केंद्र पर खरीद नहीं हुई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप