जागरण संवाददाता, फीरोजाबाद: विद्युत विभाग की लापरवाही से शनिवार को किसानों का आक्रोश फूटा। भारतीय किसान यूनियन (भानु) पदाधिकारियों ने दोपहर में रिजावली फीडर पर तालाबंदी करने के साथ एसडीओ व एसएसओ को बंधक बना लिया। इसके बाद दोनों अधिकारियों को चार किमी तक पैदल दौड़ाते हुए यूनियन के दफ्तर तक ले गए। वहां भी दोनों डेढ़ घंटे तक नजरबंद रहे। एक्सईएन ने पहुंचकर गलती मानी और आश्वासन देकर मामला निपटाया।

बुधवार को तेज आंधी व बारिश के दौरान रिजावली फीडर से जुड़े 90 गांवों की सप्लाई ठप हो गई। विद्युत विभाग द्वारा दो दिन की भागदौड़ के बाद 60 गांव में सप्लाई चालू कर दी थी। चार दिन बाद भी 30 गांव अंधकार में डूबे हुए थे। यहां नलकूप बंद पड़े हैं, आटा चक्कियां तक नहीं चल पा रहीं। शनिवार दोपहर लगभग तीन बजे भारतीय किसान यूनियन (भानु) राष्ट्रीय अध्यक्ष युवा मोर्चा पवन ठाकुर, प्रदेश अध्यक्ष योगेश प्रताप सिंह के नेतृत्व में किसान हाथों में डंडे थामे रिजावली सबस्टेशन पर पहुंचे। वहां सब स्टेशन पर काम करा रहे एसडीओ राजवीर सिंह और एसएसओ को खरी खोटी सुनाते हुए बंधक बनाकर सब स्टेशन पर ताला डाल दिया। इसके बाद काफी देर तक नारेबाजी की। इसके बाद दोनों अधिकारियों को पैदल चार किमी दौड़ाते हुए इमलिया गांव स्थित पार्टी के प्रदेश कार्यालय ले गए। वहां डेढ़ घंटे दोनों को फर्श पर बिठाए रखा। बंधक बनाने की जानकारी मिलते ही अधिकारी फोर्स के साथ पहुंच गए। एक्सईएन के आश्वासन के बाद किसानों का विरोध प्रदर्शन समाप्त हुआ। मौके पर भाकियू जिलाध्यक्ष एटा कुलदीप ठाकुर, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष ताहिर भाई, इशाक मोहम्मद, आदित्य प्रताप सिंह, गौरव ठाकुर, रिकू ठाकुर, जमालुद्दीन, मलिक आदि मौजूद थे। युवा मोर्चा अध्यक्ष पवन ठाकुर का कहना है कि हजारों किसान परेशान थे। यदि कल तक आपूर्ति शुरू न हुई तो फिर से बंधक बनाया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस