संवाद सहयोगी, टूंडला,(फीरोजाबाद): आलू फसल बर्बाद होने से परेशान किसान ने शुक्रवार रात्रि फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। किसान पर बैंक व अन्य लोगों का कर्ज था।

थाना नगला¨सघी क्षेत्र के गांव लांघी खुर्द निवासी 40 वर्षीय अवधेश यादव पुत्र राम औतारी यादव पर दो बीघा जमीन है। परिजनों का कहना है कि उन्होंने आठ बीघा खेत पट्टे पर लेकर दस बीघा आलू की फसल बोई थी। फसल पर रोग आने के कारण उपज अच्छी नहीं हुई। फसल करने को उन्होंने बैंक के साथ ही गांव के ही कुछ लोगों से कर्ज लिया था। फसल कम और कर्ज अधिक होने के कारण वह कई दिनों से तनाव में थे। परिजनों ने भी उन्हें कई बार समझाया था। शुक्रवार देर शाम वह अचानक घर से गायब हो गए। जब वह काफी देर तक घर वापस नहीं लौटे तो परिजनों को ¨चता हुई। उनकी तलाश की तो रात्रि करीब साढ़े नौ बजे उनका शव गांव के बाहर स्थित खेतों पर मर्दानी धोती के सहारे शीशम के पेड़ पर लटका मिला। जानकारी होने पर दर्जनों की संख्या में ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। परिजनों ने रात्रि में ही बिना पुलिस को बताए शव का अंतिम संस्कार कर दिया। मृतक की दो बेटियां 16 वर्षीय करिश्मा, 14 वर्षीय अंजली व दो पुत्र दस वर्षीय प्रशांत व आठ वर्षीय निशांत है। किसान की मौत के बाद गांव में मातम छाया हुआ है। परिजनों के सामने अब दो जून की रोटी की भी समस्या खड़ी हो गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस