मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, फीरोजाबाद: मां आदि शक्ति के पूजन का विशेष पर्व शनिवार से शुरू हो गया। सुबह मंगला आरती के लिए देवी मंदिरों पर आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा। कैला देवी मंदिर पर ऐतिहासिक भीड़ होने से हर तरफ सिर ही सिर दिखाई दे रहे थे। वैष्णोदेवी धाम पर भी श्रद्धालुओं का मेला लगा रहा और गुफा में प्रवेश के लिए लोग कतारों में खड़े रहे। वहीं घर-घर में कलश की स्थापना कर माता की चौकी सजाई गई। पहले दिन शैलपुत्री और ब्रह्मचारिणी का पूजन विधि विधान से हुआ। सुबह तीन बजे से ही प्रमुख मंदिर और उन तक जाने वाली राहें मां के जयकारों से गूंजती रहीं। श्रद्धालुओं में नेजा चढ़ाने की होड़ लगी रही।

सुहाग नगरी में नवदुर्गा महोत्सव धूमधाम से मनाया जाता है। शनिवार को श्रद्धालुओं के दिन की शुरूआत रात तीन बजे से हुई। शहर के प्रसिद्ध राजराजेश्वरी कैला देवी मंदिर में मंगला दर्शन के लिए हजारों की भीड़ उमड़ पड़ी। सुबह चार बजे मंदिर के पट खुलने से पहले समूचा परिसर श्रद्धालुओं की भीड़ से खचाखच भर गया था। जैसे ही पट खुले तो मां के जयकारों से परिसर गूंज उठा। चार से पांच बजे तक मां के दर्शन करने के लिए काफी भीड़ जुटी रही। फिर एक घंटे के लिए पट बंद हुए तो परिसर में सिर ही सिर दिखाई देने लगे।

मां के दर्शन कर श्रद्धालुओं ने खुद को धन्य समझा और घर लौटकर पूजन की तैयारी में जुट गए। घर-घर मां का दरबार सजा कर परिजनों के साथ पूजा की और प्रसाद वितरण किया। महिलाओं, पुरुषों और बच्चों ने भी व्रत रखा। शहर के कोटला रोड स्थित माता मंदिर, संतोषी माता मंदिर, जलेसर रोड पर काली देवी मंदिर, सुहाग नगर स्थित शीतला माता मंदिर सहित अन्य माता मंदिरों पर रात तक श्रद्धालुओं का आना-जाना लगा रहा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप