मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

फीरोजाबाद, जागरण संवाददाता। सुहागनगरी की सीवरेज व्यवस्था को दुरुस्त बनाने के लिए जलनिगम द्वारा 18 हजार से अधिक सीवर कनेक्टिंग चैंबर बनाने के लिए करोड़ों का प्रस्ताव भेजा गया, जिसे शासन ने निरस्त कर दिया है।

अमृत योजना के तहत जलनिगम द्वारा दो साल पहले सीवर कनेक्टिग चैंबर निर्माण का कार्य शुरू कराया गया था। पहले फेज में 17820 चैंबर तैयार करने के लिए 41 करोड़ का प्रस्ताव पास हुआ। जलनिगम द्वारा प्राइवेट कंपनियों के माध्यम से चैंबर निर्माण का कार्य कराया गया। अधिकारियों की लापरवाही के चलते ठेकेदारों ने पानी की पाइप लाइन के ऊपर चैंबर बना दिया। इससे शहर के कई मुहल्लों में दूषित जलापूर्ति की समस्या बनी हुई है। जलनिगम ने पहले फेज का कार्य पूरा कर दिया है।

इधर सोफीपुर में 60 एमएलडी का सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का निर्माण कराया जा रहा है। शासन से अवशेष बजट न मिलने के कारण एसटीपी कार्य भी अधर में लटका है। पहले फेज का कार्य पूरा होने पर जलनिगम द्वारा दूसरे फेज में 18,300 चैंबर बनाने के लिए 36 करोड़ का प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा गया। शासन ने इस प्रस्ताव पर एसटीपी चालू न होने के कारण रोक लगा दी है। जलनिगम को निर्देश दिए हैं कि एसटीपी का संचालन जल्द शुरू किया जाए, जिससे शहर की सीवरेज व्यवस्था में सुधार हो सके। अमृत योजना के अंतर्गत दूसरे फेज में सीवर चैंबर निर्माण के लिए 36 करोड़ का प्रस्ताव भेजा गया था। शासन द्वारा उस प्रस्ताव को निरस्त कर दिया गया है। एसटीपी चालू करने के लिए शासन से अवशेष बजट आवंटित करने के लिए पत्र भेज दिया है।

राजकुमार शर्मा-अधिशासी अभियंता जल निगम

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप