जागरण संवाददाता, फतेहपुर : यूपी सरकार के निर्देश पर 11 से 14 अप्रैल के बीच टीका उत्सव तो मनाया गया, लेकिन वैक्सीन के कमी ने उत्सव पर ग्रहण लगा दिया। बुधवार को आंबेडकर जयंती के अवसर पर भी टीकोत्सव कार्यक्रम रहा, लेकिन पांच सेंटर बिना वैक्सीन के बंद रहे, जबकि खजुहा सेंटर में अमौली व जिले से वैक्सीन भेजकर काम चलाया गया। दिन भर में कुल 1880 लोगों ने टीका लगवाया। अब भी वही सवाल है कि कल का टीकाकरण कैसे होगा, क्योंकि जिले में मात्र 2060 टीका के लिए वैक्सीन ही बचीं है।

बुधवार को खागा, हथगाम, विजयीपुर, ब्राडवेल हॉस्पिटल हरिहरगंज, करुणाजीवन ज्योति पत्थरकटा ऐसे केंद्र रहे जहां वैक्सीन न होने के कारण टीकाकरण नहीं हुआ। असोथर, बहुआ, हसवा, भिटौरा, तेलियानी, पीपीसी सेंटर जिला अस्तपाल, धाता, अमौली, देमवई, खजुहा और गोपालगंज पीएचसी में टीकाकरण हुआ। टीकाकरण में बड़ा बदलाव इस बात का देखा गया कि पहले लोगों को बुलाना पड़ता था और उन्हें यह बताना पड़ता था कि टीका लगवाना जरूरी है। अब लोगों में यह जागरूकता समय में आ गई है और लोग केंद्रों में पहुंच कर खुद ही टीका लगवाने की मांग करते हैं। गजब यह है कि वैक्सीन की निरंतर कमी के बाद भी किसी तरह से काम चलाया जा रहा है। कोरोना टीकाकरण के प्रभारी डॉ सुरेश कुमार ने बताया कि अब भी जिले में 2060 डोज वैक्सीन मौजूद है। जिसे गुरुवार को केंद्रों में लगाया जाएगा।

पांच हजार वैक्सीन और मिली, रात तक पहुंचेगी

लगातार वैक्सीन की मांग कर रहे जनपद को बुधवार को लखनऊ से पांच हजार वैक्सीन स्वीकृत हो गई है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ इस्तियाक अहमद के अनुसार वैक्सीन लाने के लिए वाहन दोपहर में ही रवाना कर दिया है। उम्मीद है कि रात में वैक्सीन जिले पहुंच जाएगी और सुबह जिन सेंटर में निल है वहां पहुंचाई जाएगी। अभी 20 हजार डोज की और मांग की गई है, ताकि टीकाकरण की रफ्तार धीमी न हो। कोविड वैक्सीनेशन की बीते 24 घंटे में तस्वीर

60 साल से ऊपर - 848

45 से 60 साल - 1032

हेल्थ वर्कर -05

फ्रंट लाइनर - 05

कुल वैक्सीनेशन -1890

अब तक की तस्वीर

60 साल से ऊपर - (पहली वैक्सीन लेने वाले) 61000

45 से 60 साल (पहली वैक्सीन लेने वाले)30000

दोनों वैक्सीन ले चुके - 30000

Edited By: Jagran