जागरण टीम, फतेहपुर : अलग-अलग थानान्तर्गत घरेलू कलह एवं मानसिक तनाव के चलते आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के पति ने गले में दुपट्टे का फंदा डालकर झूल गया। वहीं कोटेदार के जेठ ने पेट दर्द से परेशान होकर फंदा लगाकर मौत चुनी।

सदर कोतवाली के तुराब अली का पुरवा मोहल्ला निवासी आंगनबाड़ी सहायिका विमला देवी पत्नी दिनेश कोरी रामगंज पक्का तालाब स्थित आंगनबाड़ी केंद्र में कार्यरत हैं। उनके 45 वर्षीय पति कमरे में फंदा लगाकर झूल गए। पत्नी विमला देवी ने बताया कि जब वह घर आई तो पति फंदे पर लटक रहे थे जिन्हें नीचे उतारकर सदर अस्पताल लाया गया। जहां चिकित्सकीय टीम ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। नि:संतान पत्नी ने बताया कि पति दिनेश शराब पीने के आदी थे और नशे में रोजाना झगड़ा करते थे।

उधर गाजीपुर थाने के निधवापुर गांव निवासी 40 वर्षीय रामबिहारी केवट पुत्र स्व. केदार पेट दर्द से परेशान रहता था। काफी इलाज के बावजूद दर्द में कोई फायदा न होने पर उसने मंगलवार को भोर पहर कमरे में रस्सी से गले में फंदा डालकर जान दे दी। जिसके दो भाई परदेश में रहते हैं। पत्नी फूला देवी ने बताया कि बीमारी ठीक न होने की वजह से पति ने जान दे दी। मृतक की लहुरी रन्ना देवी कोटेदार है। इसके पूर्व मृतक की मां रूपरानी कोटेदार थी। हालांकि एसओ धीरेंद्र कुमार ¨सह का कहना था कि खुदकशी का कारण नहीं ज्ञात हो सका है।

Posted By: Jagran