जागरण टीम फतेहपुर : स्वास्थ्य सेवाओं और सुविधाओं की पड़ताल में जुटी सीआरएम (काम रिव्यू मिशन) टीम रविवार को तीसरे दिन भी एक्टिव रही। टीम ने सुबह पहर बहुआ पीएचसी में और दोपहर बाद हेल्थ एवं वेलनेश सेंटर शाह तथा शाम को खटौली भट्ठे में पहुंच कर सेवाओं व सुविधाओं की जानकारी ली। भट्ठे पर पहुंची टीम की अध्यक्ष जोया अली रिजवी ने मजदूर मैकी से बात की। पूछा कि बीमार पड़ने पर वह कैसे और कहां से उपचार पाती है।

भट्ठे में बसे तीन मजदूरों के पास गोल्डन कार्ड और पांच मजदूरों के पास मुख्यमंत्री जन आरोग्य कार्ड पाया गया। यहां पर छोटे बच्चों के टीकाकरण के कार्ड देखकर टीम ने इसके फोटोग्राफ भी किए। इससे पहले केंद्रीय टीम की अध्यक्ष 10 सदस्यीय दल के साथ बहुआ पीएचसी पहुंची थीं। यहां पर उन्होंने लेबर रूम, वार्ड, ओपीडी कक्ष, दवा वितरण कक्ष, आदि को देखा। यहां पर व्यवस्थाएं देख कर प्रभारी डा. विमलेश कुमार को कहा कि जिस तरह आज अस्पताल में सेवाएं व सुविधाएं उन्हें मिली है, वह आगे भी बनीं रहनी चाहिए। अगर वह पांच साल बाद भी देखने आएं तो इसमें कटौती न मिले। बता दें कि टीम के आगमन को लेकर अस्पतालों को की सजावट व सुविधाओं को संवारने का एक माह से काम चल रहा था। टीम ने हेल्थ एवं वेलनेश सेंटर शाह को भी देखा। यहां पर एएनएम से गांव के उन लोगों की सूची मांगी जिसमें उन बीमारों का ब्योरा दर्ज करने का निर्देश है, कि गांव में किस किस स्थाई बीमारी के कितने लोग हैं। लेकिन एएनएम टीम को यह सूची नहीं दिखा पाई। निरीक्षण में केंद्रीय टीम की डा. अग्रिमा रैना, डा. शिवाली सिसोदिया, डा. अत्रि गांगुली के साथ सीएमओ डा. राजेंद्र सिंह, एडिशनल सीएमओ डा. एसपी जौहरी मौजूद रहे।

हथगाम सीएचसी की सेवाओं को सराहा

सीआरएम टीम ने हथगाम सीएचसी को भी देखा और यहां की सेवाओं को सराहा। टीम ने यहां चिकित्सा अधीक्षक डा. अमित चौरसिया, डा. नेहा पाठक और चौकीदार की सेवाओं से अन्य लोगों को सीख लेने की बात कहीं। यहां गेट, लांड्री, सफाई, व महिला व पुरुष वार्ड में टीम ने एक-एक सुविधा की जांच की।

Edited By: Jagran